गुना के परिवार को 24 घंटे में मिले दो दर्द: दादा के अंतिम संस्कार में शामिल होने आए पौत्र की नदी में डूबने से मौत

गुना42 मिनट पहले

कॉपी लिंकप्रियव्रत सिंह। फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar

प्रियव्रत सिंह। फाइल फोटो।

जिले के म्याना इलाके में एक परिवार को एक ही दिन में दो दर्द मिले हैं। दादा के अंतिम संस्कार के लिए कोटा से आये पौत्र की भी नदी में डूबने से मौत हो गयी। एक ही दिन में पिता और पुत्र को खोने के बाद शिक्षक की हालत खराब हो गयी और उन्हें भी अस्पताल में भर्ती करना पड़ा।

गुना के स्वतंत्रता संग्राम सैनानी स्व. सरदार सिंह के पुत्र परमाल सिंह रघुवंशी का शनिवार शाम बीमारी के चलते निधन हो गया था। उनका पौत्र प्रियव्रत सिंह कोटा में रहकर नीट की तैयारी कर रहा था। वह रविवार सुबह ही अपने दादाजी के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए गुना पहुंचा। अंतिम संस्कार के बाद सभी लोग वापस घर आ गए। अचानक प्रियव्रत ने गाड़ी उठायी और सिंध नदी पर पहुंच गया और नहाने के लिए नदी में उतर गया। हालांकि, नदी में केवल घुटने-घुटने तक ही पानी था। लेकिन रेत माफियाओं ने नदी को छलनी कर जगह-जगह गड्ढे कर दिए हैं। नहाते समय प्रियव्रत अचानक गड्ढे में डूब गया। 24 घंटों में ही दादा और पौत्र की मौत हो गई। उसके शव को जिला अस्पताल भिजवाया गया है। सोमवार सुबह शव का PM किया जाएगा।

(खबर अपडेट की जा रही है।)

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!