कमलनाथ बोले- चर्चा से बचने सत्र की अवधि घटाई: कांग्रेस विधायक दल की बैठक में बोले कमलनाथ- सदन में दमदारी से उठाएं जनता से जुडे मुद्दे

Hindi NewsLocalMpBhopalKamal Nath Said In The Meeting Of Congress Legislature Party Raise Public Issues Strongly In The House

भोपाल6 घंटे पहले

मंगलवार से शुरु हो रहे विधानसभा के मानसून सत्र के पहले पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के बंगले पर कांग्रेस विधायक दल की बैठक हुई। इस बैठक में कांग्रेस के नए प्रदेश प्रभारी जेपी अग्रवाल का पीसीसी चीफ कमलनाथ और नेता प्रतिपक्ष गोविन्द सिंह ने स्वागत किया। कमलनाथ ने कहा कि मप्र के नवनियुक्त प्रभारी जयप्रकाश अग्रवाल मेरे बड़े पुराने साथी हैं ,हमने साथ मिलकर काम किया है ,उनके पास संगठन का एक लंबा अनुभव है।मुझे पूरी उम्मीद है कि उसका फायदा मध्य प्रदेश कांग्रेस को मिलेगा। बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने विधायकों कहा शिवराज सरकार में मध्य प्रदेश घोटालों का प्रदेश बन चुका है , शिवराज सरकार इन घोटालों पर चर्चा नहीं करना चाहती है लेकिन हम चुप नहीं बैठेंगे ,हम इन घोटालों को लेकर सदन में पुरजोर ढंग से अपनी बात रखेंगे।घोटालों की लंबी लिस्टकमलनाथ ने कहा आज हमारे सामने पोषण आहार घोटाला है ,कारण डैम का भ्रष्टाचार का मामला है ,यूरिया का घोटाला है ,आज किसान किसानों को प्याज व लहसुन के दाम नहीं मिल पा रहे हैं ,किसान परेशान हैं , बाढ़ का मुआवजा अभी तक नहीं मिला है ,कारण डैम के पीड़ित और प्रभावितों को अभी तक राहत के नाम पर कुछ नहीं मिला है ,कानून व्यवस्था की स्थिति खराब होती जा रही है ,सरकार सदन में इन मुद्दों पर चर्चा से बचना चाहती है। इसलिए उसने सत्र की अवधि कम रखी है लेकिन हम इन सब मामलों को दमदारी से सदन में उठाएंगे और जनता की अदालत में भी सरकार के घोटालों को ले जाएंगे।श्योपुर में हो रहा चीता ईवेंटनाथ ने कहा श्योपुर जिला कुपोषण में देश में प्रथम है लेकिन कुपोषण दूर करने की बजाय सरकार वहां चीता इवेंट में लगी है। चुनाव में मात्र 13 माह बचे हैं ,आप सब लोग अपने-अपने क्षेत्रों में जनता के बीच में जाकर उनकी लड़ाई को लड़े क्योंकि शिवराज सरकार ने जनता से किए वादों को अभी तक पूरा नहीं किया है।आज हर वर्ग परेशान हैं। नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव में हमको अच्छी सफलता मिली है।अभी 47 नगरपालिका और परिषदों के भी चुनाव होना है । हम सब लोग परिणाम के आधार पर आकलन करें कि हमें और क्या सुधार की आवश्यकता है।अपने-अपने क्षेत्रों में मंडल-सेक्टर और बूथ इकाइयों को और मजबूत बनाएं क्योंकि मज़बूत संगठन के बदौलत ही हम चुनाव जीत सकते हैं। रैगांव ,दमोह के उपचुनावो में हमारी जीत हुई है तो उसका कारण हमारा संगठन ही रहा है।

विधायकों को संबोधित करते कमलनाथ

विधायकों को संबोधित करते कमलनाथ

15 महीनों के काम को सीना चौड़ा कर जनता के बीच में बताएंनाथ ने कहा कि हमने अपनी 15 माह की सरकार में अपनी नीति और नियत का परिचय दिया ,इसकी गवाह प्रदेश की जनता है।हमें तो सीना तान कर जनता के बीच में जाना है क्योंकि हमने इन 15 माह में जो कहा वह किया ,जनता खुद हमारे काम की गवाह है।हमने किसानों का कर्ज माफ किया ,कन्या विवाह की राशि बढ़ाई , सामाजिक सुरक्षा पेंशन की राशि बढ़ाई ,गौशाला बनवाई ,हमने इन 15 माह में एक भी ऐसा काम नहीं किया जिससे हमारे विधायकों का सर नीचा हो।हम तो गर्व से सीना तान कर जनता के बीच में जा सकते हैं और अपने 15 माह के काम को बता सकते हैं।मुद्दों से भटकाने में लगी भाजपाभाजपा ने अपनी सरकार में विकास का कोई काम नहीं किया है इसलिए वह मुद्दों से भटकाने का काम कर रही है ,वह विकास के मुद्दों पर चुनाव लड़ना नहीं चाहती है ,वह तो समाज को बांटने वाले मुद्दों को हवा देने का काम कर रही है।हमें भाजपा से विकास के मुद्दों पर जवाब मांगना हैनए प्रभारी बोले- नाथ हमारे पुराने साथीइस अवसर पर प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी महासचिव जयप्रकाश अग्रवाल ने संबोधित करते हुए कहा कि कमलनाथ जी के साथ मैंने युवक कांग्रेस के समय से काम किया है।मेरा उनके साथ लंबे समय का साथ है ,कमलनाथ जी के अनुभव का लाभ मध्य प्रदेश कांग्रेस को मिल रहा है ,हम साथ-साथ मिलकर काम करेंगे और वापस से मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनाएंगे।मैंने मध्य प्रदेश के और भी कई नेताओं के साथ काम किया है ,मध्य प्रदेश आकर मुझे बड़ी खुशी हुई है ,पार्टी का जो भी आदेश होगा उसके अनुसार में काम करूंगा। दिल्ली में मैंने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में लंबे समय तक काम किया है ,मुझे संगठन का लंबा अनुभव है। मैं आप सभी से कहना चाहता हूं कि एक साल बचा है ,आप चुने हुए प्रतिनिधि हैं ,सरकार भले सदन में चर्चा से भागे लेकिन आप की आवाज जनता तक जानी चाहिए।

विधायक दल की बैठक में नेता प्रतिपक्ष बोले-नेता प्रतिपक्ष गोविंद सिंह ने कहा कि हम सरकार के घोटालों और भ्रष्टाचार के मुद्दों को सदन में उठाएंगे ,इसको लेकर हमने व्यापक रणनीति बनाई हैं। हमने देखा कि किस प्रकार बाढ़ में पुल-पुलिया ,बांध बह गए ,सड़कें बह गई ,किसी को आज तक कोई राहत नहीं मिली है।हमने राज्यपाल से भी समय मांगा है कि हम सरकार के घोटालों ,भ्रष्टाचार ,किसानों की परेशानी को लेकर उनसे मिलकर अपनी बात रखना चाहते हैं।

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!