टेकडी सोनवानी के जंगल का मामला: बाघ के हमले से आदिवासी युवक की मौत, दहशत में गांव के लोग

बालाघाट40 मिनट पहले

कॉपी लिंक

बालाघाट के लालबर्रा के समीप कान्हा पेंच कारीडोर मार्ग में टेकडी सोनवानी के जंगल में बकरी चराने गए 23 वर्षीय आदिवासी युवक फूल सिंह माड़वी पंडरापाणी निवासी को दोपहर में बाघ ने अपना शिकार बना लिया। घटाना के बाद जब ग्रामीणों ने फूल सिंह का शव देखा तो वन विभाग व पुलिस को सूचना दी।

बाघ की ओर से फूल सिंह पर गर्दन सिर कमर पर पंजे से दबाया गया है। जिसके बाद बाघ युवक की मृत्यु हो गई। विभाग के अनुसार बाघ कभी मनुष्य को अपना शिकार नहीं करता शायद बकरी पर हमले से उसको बचाने के प्रयास में ग्रामीण पर हमले की संभावना बताई जा रही है।

जानकारी के अनुसार टेकड़ी से लगे जंगल में बकरी चरा रहे 23 साल के युवक पर बाघ ने अचानक हमला कर दिया, जिससे उसकी मृत्यु हो गई। हालाकि जानकार बताते है कि बाघ आमतौर पर किसी इंसान पर घात लगाकर हमला नहीं करता, तो यह अवश्य ही भ्रम में दुर्घटना हुई है।

फारेस्ट की टीम और पुलिस घटना स्थल पर मौजूद है। आवश्यक कार्रवाई के बाद युवक का शव पीएम के लिए भेजा गया। उल्लेखनीय है कि बरसात में घने जंगल की वजह से बाघ शिकार हेतु गांव के समीप आ रहे है और रोजाना बकरी आदि का शिकार भी कर रहे है। बाघ के हमले से गांव में दहशत का माहौल है।

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!