बागवानी के शौकीनों के लिए देवरी नर्सरी: घरों में 12 रुपए में लगाएं औषधीय-फूलदार, फलदार पौधे

मुरैना2 मिनट पहले

कॉपी लिंक

अमरूद, शहतूत, नीबू, संतरा, गुलाब, बोगनबिलिया, हरश्रंगार, गुड़हल हो अथवा शतावर, गिलोय, हर्र-बहेड़ा, आंवला यह सभी पौधे अगर आपको 12 रुपए में मिलें तो निश्चित ही आप कहेंगे कि सेहत, पूजा-पाठ भी आसान हो जाए। शहर की देवरी स्थित नर्सरी में यह सभी पौधे न सिर्फ तैयार हो रहे हैं बल्कि मात्र 12 रुपए में यह आमजन को उपलब्ध कराए जा रहे हैं। सबसे बड़ी बात यह है कि यहां सिर्फ पौधे ही नहीं बेचे जाते बल्कि उन्हें पनपने के लिए सर्वोत्तम मानी जाने वाली वर्मी कंपोस्ट (केंचुआ खाद) भी बाजिव दाम पर लोगों को उपलब्ध कराई जा रही है।

देवरी स्थित नर्सरी के प्रभारी निर्मल कुमार शर्मा ने बताया कि अक्सर आमजन प्रावइेट नर्सरी से 50 से 150 रुपए कीमत में फल, फूल, औषधीय व छायादार पौधे खरीदते हैं। जबकि हमारे यहां महज 12 रुपए में हर तरह के पौधे न सिर्फ तैयार करके दिए जाते हैं बल्कि उन्हें इतना बड़ा करके देते हैं कि वह घरों में आसानी से सरवाइव कर जाएं। इतना ही नहीं हम लोगों की सहूलियत के लिए अपने यहां वर्मी कंपोस्ट (केंचुआ खाद) भी तैयार करके देते हैं ताकि घरों में गमलों, क्यारियों में भी अगर यह पौधा रोपा जाए तो जल्द से जल्द फल-फूल देने लगे।

मोदी के जन्मदिन के लिए 6 हजार पौधे तैयार करने का लक्ष्यप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जन्मदिन 17 सितंबर को है। इत्तेफाक से वे 17 सितंबर को मुरैना संसदीय क्षेत्र के श्योपुर जिले में स्थित कूनो में चीता छोड़ने आ रहे हैं। इसलिए प्रदेश सरकार ने उनके जन्मदिन को एतिहासिक मनाने के लिए पूरे प्रदेश में 6 लाख से अधिक पौधे रोपने का लक्ष्य रखा है। मुरैना में देवरी स्थित नर्सरी में जिलेभर के लिए 6 हजार से अधिक पौध तैयार करने का लक्ष्य दिया गया है ताकि सामाजिक संगठन, पार्टी पदाधिकारी-कार्यकर्ता , सरकारी विभागों के अधिकारी-कर्मचारी उनके जन्मदिन पर पौधे रोपकर यादगार बना सकें।

निजी नर्सरियां भी खरीदकर महंगे दामों में बेच रहीं पौधेयहां बता दें कि इस समय मुरैना शहर सहित जिलेभर में 8 से अधिक निजी नर्सरियां हैं। इन नर्सरी के संचालक भी देवरी स्थित रोपणी से उत्तम क्वालिटी के फलदार, फूलदार व औषधीय पौधे महज 12 रुपए में खरीदकर लोगों को 50 से 120 रुपए कीमत पर बेच रही हैं। यहां बता दें कि देवरी स्थित नर्सरी से पौधे खरीदने के बाद लोगों को उन्हें रोपने, सवांरने और देखरेख करने संबंधी कुछ जरूरी टिप्स भी दी जाती हैं।

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!