कूनो में PM के कार्यक्रम में शामिल होने आए सिंधिया…: बोले-शिवपुरी नेशनल पार्क में 5 टाइगर लाने के लिए की है बात

ग्वालियर15 मिनट पहले

स्टेशन पर केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया का हुआ जोरदार स्वागत

मध्य प्रदेश के श्योपुर स्थित पालपुर कूनो नेशनल पार्क में चीता विस्थापन कार्यक्रम में प्रधानमंत्री के साथ शामिल होने शुक्रवार रात ग्वालियर पहुंचे केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने इसे ऐतिहासिक कदम बताया है। साथ ही कहा कि शिवपुरी नेशनल पार्क के लिए भी मैंने 5 टाइगर लाने के प्रयास किए हैं। इसके लिए मांग की है। जल्द उसमें भी कामयाबी मिलेगी। इससे पर्यटन और रोजगार बढ़ेगा, जिससे विकास के नए आयाम स्थापित होंगे। रणथम्बोर, कूनो, शिवपुरी फिर पन्ना एक बेल्ट पर्यावरण व वन के लिहाज से लोगों को आर्कषित करेगा।

श्योपुर के कूनो में शनिवार सुबह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आठ अफ्रीकन चीतों को नेशनल पार्क के जंगल में छोड़कर इतिहास रचेंगे। उसके गवाह बनने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह, केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर, ज्योतिरादित्य सिंधिया भी पहुंच रहे हैं। शुक्रवार रात दिल्ली से राजधानी एक्सप्रेस के माध्यम से केन्द्रीय नागरिग उड्‌डयन व इस्पात मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ग्वालियर पहुंचे। यहां स्टेशन पर उनका जोरदार स्वागत किया है। यहां सिंधिया ने मीडिया से बात की है। उन्होंने प्रधानमंत्री के विजन और प्रयास की सराहना की है। साथ ही एक दिन पहले केन्द्रीय मंत्री नितिन गड़करी द्वारा करोड़ों के प्रोजेक्ट की सौगात ग्वालियर-चंबल अंचल व मध्य प्रदेश को देने पर धन्यवाद दिया है। सिंधिया शनिवार सुबह 9 बजे ग्वालियर एयरपोर्ट पहुंचेंगे और यहां से हेलीकॉप्टर की मदद से कूनो जाएंगे।पर्यटन की दृष्टि से यह बेल्ट देश के लिए खास होने वाला है- केन्द्रीय मंत्री सिंधिया ने कहा कि हम लोग प्रयास कर रहे हैं। पर्यावरण मंत्री भूपेन्द्र यादव से मैं बात कर रहा हूं कि शिवपुरी नेशनल पार्क में पांच टाइगर लाए जा सकें। इससे यह होगा कि राजस्थान के रणथम्बोर में शेर, कूनो श्योपुर में चीते, शिवपुरी में टाइगर और पन्ना में टाइगर रिजर्व होने से पर्यटकांे को एक बेल्ट मिलेगा। जिस पर वह आकर इन वन्य प्राणियों को देख सकेंगे। इससे पर्यटन को बढ़ावा के साथ-साथ रोजगार के नए अवसर खुलेंगे।गड़करी जी ने दिल खोलकर आशीर्वाद दिया- मैंने तीन मांग केन्द्रीय मंत्री नितिन गड़करी से की थी। आगरा-ग्वालियर के बीच सिक्स लेन एक्सप्रेस वे, आगरा-ग्वालियर के बीच पुराने हाइवे का क्रांक्रीट रोड बनाई जाए। कोटा-भिंड-इटावा हाइवे, गुना के लिए रिंग रोड की मांग को भी उन्होंने माना। अब ग्वालियर में अक्टूबर को एयरपोर्ट का कार्यक्रम होगा। उसके अलगे महीने रेलवे स्टेशन का कार्यक्रम होगा। इस तरह ग्वालियर विकास के पथ पर आगे बढ़ता चला जाएगा।

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!