भोपाल में 50 साल में सबसे ज्यादा बारिश: अब तक 72 इंच पानी गिर चुका; तालाब-झील कराते ज्यादा बारिश

भोपाल7 मिनट पहले

राजधानी भोपाल में साल 2022 रिकॉर्ड बारिश का रहा। 1 जून से लेकर अब तक भोपाल (बैरागढ़) में रिकॉर्ड 72 इंच बारिश हो चुकी है। यह सामान्य 31 इंच से करीब 42 इंच ज्यादा है। अभी सितंबर आधा शेष रह गया है। ऐसे में यह आंकड़ा और बढ़ सकता है। भोपाल में बड़ा तालाब, झील और हरियाली ज्यादा होने के कारण यहां पर ग्रामीणी इलाकों से ज्यादा शहरी क्षेत्र में बारिश होती है। वैसे भोपाल जिले की बात की जाए तो अब तक करीब 67 इंच से ज्यादा बारिश हो चुकी है।

राजधानी में ग्रामीण इलाकों की अपेक्षा शहर में मानसून ज्यादा मेहरबान रहता है। साल 2021 में शहर में सबसे ज्यादा 40 इंच बारिश हुई थी, जबकि इस साल तो यह आंकड़ा 72 इंच को पार कर चुका है। भोपाल शहर समेत 5 जगहों पर बारिश को मापने का सिस्टम है। इसके अलावा नबीबाग, बैरागढ़, कोलार और बैरसिया में बारिश रिकॉर्ड की जाती है। सबसे पहला सिस्टम बैरागढ़ में लगा था। यही भोपाल की बारिश का रिकॉर्ड होता है। भोपाल करीब 50 साल से आसपास के इलाकों से औसत बारिश के मामले में भी नंबर वन बना हुआ है।

हाई लोकल एक्टिविटी, मानसून ब्रेक भी नहीं

मौसम विभाग के अनुसार बारिश के इस डिस्ट्रीब्यूशन की वजह भौगोलिक स्थिति और मानसून रेन पैटर्न होता है। इसके साथ ही ऐसे क्षेत्रों में अधिक बारिश होती है, जहां बड़े तालाब और बड़ी नदियां होती हैं। यह लोकल सिस्टम को बनाते हैं। ऐसे में कई बार स्ट्रांग सिस्टम नहीं होने से भी इन इलाकों में बारिश हो जाती है। यही कारण है कि भोपाल शहर और बैरागढ़ और बैरसिया से भी ज्यादा बारिश होती है।

नबीबाग में बारिश के लिए सिस्टम बनना जरूरी

नबीबाग का एरिया चारों तरफ से लैंड लॉक्ड है, यानी उसके आसपास कोई भी वाटर बॉडी नहीं है। इस इलाके में बारिश के लिए मानसून का स्ट्रांग सिस्टम बनना जरूरी है। इस साल भोपाल के आसपास लगातार बारिश होती रही। जून से जुलाई तक मानसून ट्रांजीशन पीरियड में लोकल एक्टिविटी यानि मानसून आने के पहले हल्की बारिश भी होती रही। परिस्थितियां अनुकूल होने के कारण नबीबाग में भी बारिश हुई। शहर के बाद नबीबाग में सबसे ज्यादा पानी गिरा।

भोपाल में गुरुवार रात कुछ इलाकों में तेज बारिश हुई।

भोपाल में गुरुवार रात कुछ इलाकों में तेज बारिश हुई।

बैरागढ़ मुख्य सेंटर

भोपाल जिले में सबसे पहले बारिश का सिस्टम बैरागढ़ में लगा था। यह भोपाल जिले का मुख्य केंद्र है। यहां की बारिश को भोपाल की बारिश माना जाता है। इसके बाद भोपाल शहर, बैरसिया, कोलार और नबीबाग में सिस्टम लगे। पांचों जगह की बारिश के औसत से जिले की बारिश निकलती है। जिले में अब तक करीब 68 इंच पानी गिर चुका है।

बुधवार को भदभदा के गेट खोलने पड़े।

बुधवार को भदभदा के गेट खोलने पड़े।

अब तक शहर में हुई सबसे ज्यादा बारिश

इस साल मानसून सीजन में (जुलाई से अब तक) के रेन फॉल रिकॉर्ड के अनुसार सबसे ज्यादा 72 इंच बारिश बैरागढ में हुई। इसके बाद नबीबाग में 68 इंच बारिश दर्ज हुई है। तीसरे नंबर पर शहर की बारिश है। यहां अब तक 65 इंच बारिश हुई है। इसके बाद कोलार में 60 इंच बारिश हुई। इस साल अब तक सबसे कम बारिश बैरसिया 55 इंच बारिश ही हुई है।

गुरुवार शाम से शुरू हुई बारिश शुक्रवार सुबह तक होती रही।

गुरुवार शाम से शुरू हुई बारिश शुक्रवार सुबह तक होती रही।

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!