आजाद अध्यापक संघ की हड़ताल: प्रभावित हो रही बच्चों की पढ़ाई, कई स्कूलों में एक टीचर ले रहे तीन कक्षाओं की क्लास

Hindi NewsLocalMpBalaghatEducation Of Children Getting Affected, In Many Schools One Teacher Is Taking Three Classes Of Classes

बालाघाट19 मिनट पहले

कॉपी लिंकस्कूलों में बच्चों को पढ़ा रहे बच्चे। - Dainik Bhaskar

स्कूलों में बच्चों को पढ़ा रहे बच्चे।

बालाघाट जिले में क्रमोन्नति और पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर आजाद अध्यापक संघ का प्रदेश स्तरीय धरना प्रदर्शन चल रहा है। यह आंदोलन कटंगी, परसवाड़ा सहित संपूर्ण जिले में 14 सितंबर से लगातार जारी है। इसका असर अब स्कूली शिक्षा पर पड़ रहा है। कई प्राथमिक और माध्यमिक स्कूलों के दरवाजों पर ताले लटक रहे हैं।

कई स्कूलों में एक ही शिक्षक 5वीं से लेकर 8वीं तक के बच्चों को पढ़ा रहा है। एक शाला परिसर में संचालित होने वाले प्राथमिक और माध्यमिक स्कूलों की जिम्मेदारी 1 शिक्षक या शिक्षिका संभाल रही है। कई स्कूलों में बड़ी कक्षा के बच्चे छोटी कक्षाओं के बच्चों को पढ़ाते नजर आ रहे है। इधर, आजाद अध्यापक संघ ने साफ कर दिया है कि जब तक उनकी मांग पूरी नहीं होती तब तक उनका प्रदर्शन जारी रहेगा।

ये है आजाद अध्यापक संघ की मांग

संघ की मांग है कि प्रदेश भर में अध्यापक शिक्षक संवर्ग को भी अंशदाई पेंशन के स्थान पर पुराने शिक्षक संवर्ग की भांति पुरानी पेंशन योजना लागू की जाए।वर्ष 2006 से 2009 में नियुक्त अध्यापक शिक्षक संवर्ग को प्रथम कमोन्नत वेतनमान / समयमान वेतनमान एवं वर्ष 1998 से 2001, 2002 में नियुक्त अध्यापक शिक्षक संवर्ग को द्वितीय क्रमोन्नत वेतनमान / समयमान वेतनमान के आदेश जारी किए जाए।विगत वर्षों में दिवंगत अध्यापक शिक्षक संवर्ग के आश्रित परिवार के सदस्य को अनुकम्पा नियुक्ति प्रदान की जाये साथ ही दिवंगत एवं सेवानिवृत होने वाले अध्यापक शिक्षक संवर्ग को शासकीय कर्मचारियों के समान ही ग्रेज्युटी की राशि का भुगतान किया जाए।गुरूजी संवर्ग के अध्यापक शिक्षक संवर्ग को भी शिक्षा गारंटी शाला से प्राथमिक शाला मे उन्नयन दिनांक से वरिष्ठता का लाभ प्रदान किया जाए। (ये लाभ छत्तीसगढ़ में गुरूजी संवर्ग को दिया गया है)।अध्यापक शिक्षक संवर्ग की वरिष्ठता का निर्धारण प्रथम नियुक्ति दिनांक से किया जाए।खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!