बिजली विभाग: दो दिन 11 हजार केवी का बिजली फीडर बंद करना पड़ा, 23 फीट ऊंचे ताजियों से हो सकता था फाल्ट

Hindi NewsLocalMpTikamgarhThe Power Feeder Of 11 Thousand KV Had To Be Closed For Two Days, There Could Be A Fault Due To 23 Feet High Freshness

टीकमगढ़40 मिनट पहले

कॉपी लिंक

शहर में बीते दो दिन से चेहल्लुम पर्व के चलते बिजली विभाग को 11 हजार केवी का फीडर बंद करना पड़ा, क्योंकि 6 ताजियों की ऊंचाई 22-23 फीट कर दी गई। जबकि 16 ताजियों की ऊंचाई 17 फीट और 3 फीट का खटौला सहित 20 फीट थी। सोशल मीडिया पर बिजली कटौती को लेकर लोगों ने विरोध जताया कि पहले जिस स्थान से ताजिया निकल जाते थे, वहां का फीडर चालू कर दिया जाता था, लेकिन इस बार ताजिया निकल जाने के बाद भी शहर की बिजली सप्लाई चालू नहीं की गई।

बिजली कटौती को लेकर 230 लोगों ने शिकायत दर्ज करवाई, इसके अलावा 118 लोगों के कनेक्शन काट दिए। सोमवार को दिनभर लोगों के कनेक्शन बिजली विभाग ने जोड़े। ताजियों की ऊंचाई अधिक होने के चलते बिजली विभाग ने शनिवार को शाम 5 बजे से 11 हजार केवी के फीडर को बंद किया। इसके बाद कटरा फीडर 2.30 बजे रात को और नए बस स्टैंड का फीडर सुबह 4.30 बजे चालू किया गया। जबकि रविवार को शाम 5 बजे फीडर बंद करने के बाद रात 12 बजे 11 हजार केवी के फीडर को चालू किया गया। इस बीच लोग उमस भरी गर्मी से बेहाल होते दिखे।

अंजुमन कमेटी के सदर से जब ताजियों की ऊंचाई को लेकर बात की तो उन्होंने बताया कि पिछले मोहर्रम के समय कुछ ताजिया 23 फीट से ऊंचे हो गए थे। जिससे काफी दिक्कतें आई थीं। ऐसे में तत्काल समाज की विशेष बैठकर बुलाकर लोगों को हिदायत दी थी कि चेहल्लुम पर ताजियों की ऊंचाई कम रखें, फिर भी कुछ ताजियों की ऊंचाई 23 फीट से अधिक हो गई।

डीजे संचालकों की मनमानी पर प्रशासन नहीं कस पा रहा नकेलशहर में धार्मिक आयोजनों में डीजे संचालकों की मनमानी पर प्रशासन नकेल नहीं कस पा रहा है। हाईकोर्ट का आदेश है कि 60 डेसीबल से अधिक ध्वनि पर डीजे नहीं बज सकेंगे, लेकिन हाईकोर्ट के आदेश का जिम्मेदार अधिकारी डीजे संचालकों से पालन नहीं करवा पा रहे हैं। शहर में मोहर्रम, चेहल्लुम, गणेश विसर्जन या फिर देवी प्रतिमाओं का विसर्जन कार्यक्रम हो डीजे संचालक होड़ लगाकर गाने बजाते हैं। आवासीय इलाकों, बाजारों व ग्रामीण क्षेत्रों में डेसिबल का मानक तय होता है। प्रशासन के स्पष्ट आदेश के बावजूद जिले में मनमाने तरीके से धार्मिक कार्यक्रमों में डीजे बज रहे हैं।

डीजे संचालक गाड़ियों में 30 साउंड और 40 से अधिक चुंगा लगाकर डीजे का संचालन कर रहे हैं। जिनकी तेज ध्वनि के कारण हृदय रोगी, बुजुर्ग और बच्चों को दिक्कत हाेती है।

सुरक्षा की दृष्टि से फीडर को करना पड़ा बंदताजियों की ऊंचाई अधिक होने के चलते 11 हजार केवी के पूरे फीडर को बंद करना पड़ा। सुरक्षा की दृष्टि से पूरे फीडर को मजबूरन बंद रखा कि कहीं रिटर्न करंट की स्थिति न बन जाए। हिदायत के बाद भी ताजियों की ऊंचाई को अधिक रखा गया।- अमित कुमार, कार्यपालन अभियंता, टीकमगढ़

नियमों से खिलवाड़ किया तो डीजे को करेंगे जब्तशहर में धार्मिक आयोजनों में बजने वाले डीजे की ध्वनि को लेकर जल्दी बैठक करूंगा। नियमों से खिलवाड़ करने वाले डीजे संचालकों के खिलाफ कार्रवाई होगी। – सीपी पटेल, एसडीएम, टीकमगढ़

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!