घरेलू कलह में युवक ने निगला जहर: हालत खतरे से बाहर, बड़े भाई से हो गई थी कहासुनी

दतिया28 मिनट पहले

आजकल नौजवानों में निगेटिव ख्याल ज्यादा पनपने लगे हैं। जिसे लेकर वो किसी भी हद तक जाने को तैयार हो जाते हैं। जरा-जरा सी बात को लेकर उनके मन में आत्महत्या का विचार तक आने लगता है। ताजा मामला सोमवार शाम के सड़ गांव में हुआ। जहां पर घनकुन्दर रावत के 22 वर्षीय बेटे रामनिवास ऩे किट नाशक दवा पी ली औऱ उसकी हालत बिगड़ गई। युवक की हालत बिगड़ता देख परिजन उसे आनन फानन में उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराकर उपचार शुरू कराया। कई घंटों की मशक्कत के बाद युवक रामनिवास जहर के प्रकोप से बाहर निकल सका। जिसके बाद परिजनों ने भी राहत की सांस ली है।

परिजनों के द्वारा बताया गया है कि रामनिवास की अपने ही बड़े भाई देवेंद्र से कुछ कहासुनी हो गई थी। इसी को लेकर युवक ने घर में रखी धान की फसल में लगने वाली कीटनाशक दवा पी ली थी। जब परिजनों ने मनोज को बेहोशी की हालत में पड़ा देखा तो तुरंत इलाज के लिए जिला अस्पताल ले आए। जहां पर चिकित्सकों द्वारा उपचार किया गया। उपचार के बाद जब युवक जहर के प्रकोप से बाहर हुआ उसके बाद परिजनों ने राहत की सांस ली।

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!