मां दुर्गा की प्रतिमा को तैयार करने में काफी मशक्कत: मिट्टी- बांस के लिए जूझते रहे मूर्तिकार, स्वयं जुटाई सामग्री

रायसेन5 मिनट पहले

कॉपी लिंकदुर्गा प्रतिमाओं को आकार देते मूर्तिकार। - Dainik Bhaskar

दुर्गा प्रतिमाओं को आकार देते मूर्तिकार।

शारदीय नवरात्र 26 सितंबर से प्रारंभ हो रही है लेकिन माता की प्रतिमा तैयार करने में मूर्तिकार जुट गए हैं। झांकी स्थल पर भी पंडाल तैयार करवाए जा रहे हैं। इस बार शहर में 8 से 15 फीट तक ऊंची मां दुर्गा की प्रतिमाओं को विराजित किया जाएगा। इधर, माता की प्रतिमा के स्वरूप को तैयार करने वाले मूर्तिकारों को कई प्रकार की दिक्कतों का सामना भी करना पड़ रहा है। न तो उन्हें मूर्तियां बनाने के लिए मिट्टी मिल पाई और न ही वन विभाग उन्हें बांस उपलब्ध कराया पाया। ऐसी परिस्थिति में मूर्तिकार महंगे दामों पर मिट्टी और बांस खरीदकर बड़ी प्रतिमाओं को तैयार कर पाए है।

गंज बाजार में मां अंबे की बड़ी मूर्तियां तैयार कर रहे मूर्तिकार लखन चक्रवर्ती ने बताया कि माता की मूर्ति का ज्यादातर निर्माण मिट्टी से किया गया है। इस साल बुकिंग कराने वालों ने भी ज्यादातर मिट्टी की मूर्तियों की मांग की है, लेकिन उन्हें माता की मूर्तियां बनाने के लिए मिट्टी तक नहीं मिल पाती है। पहले एक ट्राली मिट्टी 1000-1200 रुपए में मिल जाती थी। इस बार वही एक ट्राली मिट्टी 5 से 6 हजार रुपए देकर खरीदना पड़ी है। जबकि कई सालों से कुम्हार प्रशासन से मिट्टी उपलब्ध कराने की मांग करते आ रहे हैं।

मिट्टी नहीं मिलने पर मजबूरी में कई कुम्हारों को पीओपी से छोटी मूर्तियां बनाना पड़ती है। बड़ी मूर्तियां तो मिट्टी से ही तैयार करना पड़ती है। इसलिए प्रशासन को उन्हें मिटटी और बांस उपलब्ध करवाना चाहिए।

पहले 15 रुपए में मिलता था एक बांस, इस बार 40 रुपए में खरीदापाटन देव पर माता की मूर्तियां तैयार कर रहे मूर्तिकार तुलसी प्रजापति ने बताया कि उनके यहां 12 बड़ी मूर्तियां के आर्डर है। इस बार मूर्तियों को तैयार करने के लिए वन विभाग से बांस नहीं मिल पाया। ऐसी स्थिति में उन्हें गांवों से बांस कटवाकर मंगवाना पड़ा है। पहले जो एक बांस 12 से 15 रुपए में मिल जाता था, वह इस बार 40 रुपए प्रति बांस उन्हें खरीदना पड़ा है।

कटवाना और उसकी ढुलाई अलग से देना पड़ी है। एक मूर्ति को तैयार करने में 15 से 25 बांस तक लग जाते है। बांस, पेपर मेश, पेड़ का गोंद और मिट्टी महंगी मिलने से मूर्तियों की लागत इस बार ज्यादा बढ़ गई है, इसलिए प्रतिमाओं की कीमत बढ़ी है। 5 हजार से लेकर 50 हजार रुपए मूल्य तक की प्रतिमाएं तैयार हो रही है ।

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!