सैकड़ों नम आंखों ने दी सेना नायक को विदाई: 2 साल से ब्रेन ट्यूमर का चल रहा था इलाज, सांसद विधायक ने दी श्रद्धांजली

विदिशा4 घंटे पहले

कॉपी लिंक

विदिशा जिले के करैया में जन्मे और देश की सेवा करते हुए लंबी बीमारी के बाद राजेन्द्र सिंह राजपूत का निधन हो गया है। मंगलवार को उनके शव को आर्मी के अधिकारी उनके गांव लेकर आए। जहां राज्यकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। देश की सेवा करते सेना के नायक स्व. राजेन्द्र राजपूत शमशाबाद तहसील के करैया, बिछिया में जन्मे थे उनकी जन्मभूमि पर उनका अंतिम संस्कार हुआ। फर्ज के लिए शहीद हुए राजेंद्र राजपूत का अंतिम संस्कार सेना ने सम्मान के साथ उनके पैतृक गाँव करैया में किया।

शमशाबाद से आठ किमी दूर ग्राम करैया निवासी गजराज सिंह राजपूत के 6 लड़का लड़कियों में राजेन्द्र कुमार राजपूत सबसे छोटा था। परिजनों के अनुसार उसे बचपन से ही देश सेवा के लिये सेना में जाने के लिए उतावला रहता था। आज से दस साल पहले उसकी सेना में नौकरी लग जाने से वह बेहद खुश हुआ । दो वर्ष पहले लेह लद्दाख में ड्यूटी के दौरान बर्फ में दबने से सिर में चोट आ गई थी जांच के दौरान सिर की नस दबने से ब्रेन ट्यूमर हो गया था जिससे विभाग ने राजेन्द्र की पोस्टिंग जयपुर कर दी थी। राजेन्द्र का विगत दो साल से सिर का इलाज पूना के मिलेट्री हॉस्पिटल में चल रहा था। सासंद राज बहादुर सिंह ,पूर्व विधायक रुद्रप्रताप सिंह ने पुष्प गुच्छ के साथ श्रद्धांजलि दी।उनके परिवार को हर संभव मदद देने का आश्वासन दिया।

पूणे में दिया गया गॉड ऑफ ऑनर

गांव के लाखन गुर्जर ने बताया कि राजेन्द्र बचपन से ही सरल स्वभाव का था हमेशा गांव में सभी से घुल मिलकर रहता था जब भी छुट्टियों में गांव आता था तो सभी से मिलता था । ग्रामीणों में ट्रेक्टर ट्राली को फूल मालाओं से सजाकर ताबूत को रखकर महानीम चौराहा से करैया तक युवा हाथों में तिरंगा लेकर भारत माता के जयकारों के साथ साथ चले सैकड़ो की संख्या में आसपास के ग्रामीण ने पहुँच कर श्रद्धांजलि दी।

जन्माष्टी पर गांव आया था राजेन्द्र

राजेन्द्र जन्माष्टमी पर अपने गांव आया था। जब स्वस्थ था और सभी गांव वालों से मिलकर गया था। इतना ही नहीं महानीम चौराहे पर रहने वाले दोस्तों के साथ भी उसने लंबा समय बिताया था इसके बाद अगस्त माह में वापस पूना हॉस्पिटल जांच कराने गया था जहाँ जांच के दौरान अस्पताल में भर्ती कराया गया था सिर में ब्रेन ट्यूमर होने से इलाज के दौरान पूना में राजेन्द्र राजपूत की मृत्यु हो गई।

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!