MP में 30 साल से सोनचिरैया नहीं,पर खर्च बराबर: सोनचिरैया सेंक्चुरी में 5 साल में सवा करोड़ रुपए खर्च; मंत्री की रिपोर्ट में खुलासा

भोपाल17 मिनट पहले

मध्यप्रदेश के सोनचिरैया सेंक्चुरी में 30 साल पहले यानी, वर्ष 1993 के बाद सोनचिरैया नहीं देखी गई, लेकिन उसके नाम पर सरकार खर्च बराबर करती रही। पिछले पांच साल में ही सेंक्चुरी में सवा करोड़ रुपए से ज्यादा खर्च हो चुके हैं। विधानसभा में वन मंत्री विजय शाह की रिपोर्ट में यह जानकारी सामने आई है। जानकारी में बताया गया कि अन्य पशु-पक्षियों के संरक्षण और संवर्धन पर यह राशि खर्च हुई है। इसे लेकर करैरा विधायक प्रागीलाल जाटव ने सवाल उठाए हैं।

शिवपुरी जिले की करैरा विधानसभा से कांग्रेस विधायक जाटव ने अभयारण्य क्षेत्र में अवैध रेत, पत्थर उत्खनन की शिकायत भी की थी। तीन बिंदुओं पर विधानसभा में सवाल पूछा गया था। मंत्री शाह ने जवाब में कहा कि वर्ष 1993 के बाद सोनचिरैया दिखाई नहीं दी, लेकिन अभयारण्य क्षेत्र में अन्य वन्य पशु-पक्षी मौजूद रहे हैं। पांच साल में अभयारण्य में राशि खर्च की गई।

हर साल औसतन 26 लाख खर्चवर्ष 2017-18 से अब 2021-22 तक कुल 1 करोड़ 29 लाख रुपए से ज्यादा खर्च हो चुके हैं। यानी, हर साल औसतन 26 लाख रुपए अभयारण्य पर खर्च किए गए। सबसे ज्यादा वर्ष 2021-22 में 31 लाख 58 लाख रुपए खर्च किए गए हैं।

दो महीने पहले अभयारण्य को खत्म करने का डिनोटिफिकेशनराष्ट्रीय वन्य प्राणी बोर्ड से करैरा अभयारण्य के डिनोटिफिकेशन की अनुशंसा मिल चुकी है। सरकार ने भी इसे खत्म करने की कार्यवाही की है। इस फैसले से 32 गांव के लोग खुश हैं, क्योंकि अभयारण्य के कारण किसानों का जमीन पर मालिकाना हक नहीं था। इस कारण दूसरे गांव के लोग यहां बेटी नहीं ब्याहते थे। अब ग्रामीण इस बात ये खुश हैं कि उन्हें जमीन का मालिकाना हक मिल रहा है। बेटों की शादियां भी हो जाएंगी।

32 गांव के लोग कर रहे थे प्रदर्शनसोनचिरैया अभयारण्य में घाटीगांव के 512 वर्ग किमी क्षेत्र में से 111.73 वर्ग किमी और करैरा के 202.12 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र की जमीन शामिल थी। यहां आखिरी बार 1993 में सोनचिरैया देखी गई थी। इसके बाद से नरवर समेत करैरा तहसील क्षेत्र के लोग अभयारण्य को खत्म करने की मांग उठाने लगे थे। इसके लिए 32 गांव के लोग लगातार प्रदर्शन कर रहे थे। करैरा में अभयारण्य 202.21 वर्ग फीट में फैला है। किसानों की निजी जमीन पर खरीद-बिक्री पर रोक लगाई गई थी। किसान रजिस्ट्री तक नहीं करा सकते थे। ये किसान 40 साल से परेशान थे। यहां युवाओं की शादियां तक रुक गई थीं। मंत्री शाह ने विधानसभा में दी जानकारी में बताया कि डिनोटिफिकेशन के बाद कृषि भूमि का क्रय-विक्रय हो सकेगा।

यह भी पढ़ें

MP में सोनचिरैया अभयारण्य खत्म

शिवपुरी का सोनचिरैया अभयारण्य अब खत्म हाे गया है। मंगलवार काे राज्य सरकार ने इसका गजट नोटिफिकेशन जारी कर दिया। इसकी सूचना मिलते ही 32 गांवों के लोग खुशी से झूम उठे। क्योंकि अभयारण्य के कारण किसानों का जमीन पर मालिकाना हक नहीं था। इससे दूसरे गांव के लोग यहां बेटी नहीं ब्याहते थे। अब खुशी इस बात की है कि किसानों को जमीन का मालिकाना हक मिलेगा और बेटों की शादियां भी समय पर हो जाएंगी। पढ़ें पूरी खबर

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!