राज्य शिक्षा केंद्र ने जारी किया आदेश: पांचवीं एवं आठवीं कक्षा बोर्ड, परीक्षा फीस प्राइवेट स्कूल भरेंगे

रतलाम38 मिनट पहले

कॉपी लिंक

राज्य शिक्षा केंद्र ने पांचवीं एवं आठवीं कक्षा को बोर्ड कर दिया है। इससे इस साल सरकारी स्कूलों के साथ ही निजी स्कूलों एवं अनुदान प्राप्त स्कूलों में भी दोनों कक्षाओं की परीक्षा बोर्ड ही होगी। वहीं केंद्र ने इन दोनों परीक्षाओं को बोर्ड करने के साथ ही यह आदेश भी जारी किया है कि दोनों कक्षाओं की परीक्षा का शुल्क भी स्कूल ही भरेंगे। यानि इस बार छात्रों को परीक्षा शुल्क नहीं देना है। स्कूल संचालक ही परीक्षा शुल्क भरेंगे। यह पहला मौका होगा जब स्कूल संचालक परीक्षा की फीस भरेंगे।

सरकारी स्कूलों में पिछले साल बोर्ड पैटर्न पर हुई थी परीक्षा : पिछले साल भी बोर्ड पैटर्न पर परीक्षा हुई थी। लेकिन यह सिर्फ सरकारी स्कूलों में हुई थी। प्राइवेट स्कूलों में लोकल स्तर पर ही परीक्षा हुई थी। इस बार सभी स्कूलों में बोर्ड की परीक्षा होगी। केंद्र ने डीईओ के नेतृत्व में परीक्षा के संचालन के निर्देश दिए हैं। सरकारी स्कूलों में अर्द्धवार्षिक परीक्षा का आयोजन राज्य शिक्षा केंद्र द्वारा निर्मित किए प्रश्नपत्रों एवं निर्धारित समय सारणी अनुसार कराया जाएगा। अशासकीय स्कूलों में अर्द्धवार्षिक परीक्षा शाला स्तर पर राज्य शिक्षा केंद्र द्वारा निर्दिष्ट पाठयक्रम एवं ब्लू प्रिंट आधारित प्रश्न पत्र निर्मित कर राज्य शिक्षा केंद्र द्वारा जारी समय सारणी अनुसार किया जाएगा।

संचालकों ने जताया विरोधराज्य शिक्षा केंद्र का बच्चों की परीक्षा फीस भरने संबधित आदेश का निजी स्कूल संचालकों ने विरोध जताया है। मप्र प्रांतीय अशासकीय शिक्षण संस्था संघ के प्रदेश अध्यक्ष दीपेश ओझा ने बताया राज्य शिक्षा केंद्र के सर्कुलर में परीक्षा शुल्क के रूप में कोई भी राशि छात्रों से नहीं लेने के आदेश जारी किए हैं। यह आदेश गलत है। इसके खिलाफ कोर्ट जाएंगे।

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!