बाबा महाकाल और भक्तों की सेवा करने आया हु: प्रशासक: संदीप सोनी ने आदेश जारी होने के बाद महाकाल दर्शन कर रात 10 बजे चार्ज लिया नए प्रशासक का चार्ज


Hindi NewsLocalMpUjjainAfter The Order Was Issued, Sandeep Soni Visited Mahakal And Took Charge Of The New Administrator At 10 O’clock In The Night.

उज्जैनएक घंटा पहले

उज्जैन। श्री महाकालेश्वर मंदिर के प्रशासक के पद पर पदस्थ हुए संदीप कुमार सोनी ने बुधवार रात को ही उज्जैन पहुंचकर भगवान महाकाल के दर्शन के बाद कार्यभार संभाल लिया है। चर्चा के दौरान उन्होने इतना ही कहा कि भगवान महाकाल ने सेवा का अवसर दिया है। भगवान महाकाल की सेवा करना और बाबा के जो सेवक है उनकी सेवा करना एक मात्र उद्देश्य है।

बुधवार शाम को अचानक सामान्य प्रशासन मंत्रालय से जारी हुए आदेश में इंदौर नगर निगम के अपर आयुक्त संदीप कुमार सोनी को श्री महाकालेश्वर मंदिर समिति के प्रशासक पद पर पदस्थ किया है। वहीं सोनी को उज्जैन विकास प्राधिकरण के सीईओ का अतिरिक्त प्रभार भी सौंपा है। आदेश के पालन में अपर कलेक्टर सोनी ने बुधवार रात करीब 9:45 बजे मंदिर पहुंचकर गर्भगृह में भगवान महाकालेश्वर का पूजन किया। इसके बाद प्रशासनिक भवन पहुंचकर 10:10 बजे चार्ज ग्रहण किया। इस दौरान उन्होने चर्चा करते हुए इतना ही कहा कि भगवान महाकाल की सेवा और भक्तों की सेवा के लिए आया हूं। सेवा का उद्देश्य है। मंदिर के प्रशासनिक भवन में चर्चा ग्रहण करने के दौरान सहायक प्रशासक मूलचंद जूनवाल, पीआरओ गौरी जोशी मंदिर की विभिन्न शाखाओं के प्रभारी मौजूद थे। गौरतलब है कि इसके पहले महाकाल मंदिर प्रशासक के रूप में गणेश कुमार धाकड़ की पदस्थापना 14 सितंबर 2021 हुई थी।

इंदौर की वर्किंग का मिलेगा फायदा

श्री महाकालेश्वर मंदिर के प्रशासक पदस्थ हुए संदीप कुमार सोनी लंबे समय से इंदौर में अलग-अलग पदों पर कर कार्य कर चुके है। चर्चा में ही उन्होने सुबह से लेकर देर रात तक इंदौर की वर्किंग बताते हुए स्पष्ट कर दिया कि वे यहां भी इंदौर स्टाईल में ही कार्य करेंगे। गुरूवार से ही कार्य शुरू करेंगे। निश्चित है कि सुबह से रात तक कार्य करने का लाभ मंदिर को मिलेगा तो व्यवस्थाओं में सुधार दिखने लगेगा।

समय कम काम में आएगी तेजी

श्री महाकालेश्वर मंदिर विस्तारीकरण योजना के पहले चरण का कार्य महाकाल कॉरिडोर के रूप में पूर्ण हो चुका है। यदा-कदा कुछ कार्य तेजी से कराने की जरूरत है। कारण है कि तैयारियों के लिहाज से प्रधानमंत्री के आगमन में केवल 15 दिनों का समय शेष है। ऐसे में प्राथमिकता के साथ समय पर कार्य पूर्ण कराना जरूरी होगा।

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!