बुरहानपुर में जिला पंचायत सदस्यों का आरोप: राजनीतिक हस्तक्षेप के कारण नहीं कराया समितियों का चुनाव, बाद में कोरम के अभाव में स्थगित बताया

Hindi NewsLocalMpBurhanpurAgriculture Standing Committee Chairman Elections Were Not Conducted Due To Political Interference, Later Postponed Due To Lack Of Quorum

बुरहानपुर13 मिनट पहले

गुरुवार सुबह 10.30 बजे से जिला पंचायत में 5 समितियों कृषि स्थायी समिति, शिक्षा स्थायी समिति, संचार व संकर्म स्थायी समिति, सहकारिता व उद्योग स्थायी समिति और स्वास्थ्य महिला और बाल कल्याण स्थायी समिति की चुनावी प्रक्रिया शुरु हुई। जिला पंचायत के कुल 10 सदस्यों में से 3 सदस्य अनिल राठौर, गेंदू बाई और ललिता गजराज राठौर जिपं पहुंचे। लेकिन 10 सदस्यों का कोरम पूरा न होने के कारण एडीएम शैलेंद्र सिंह सोलंकी ने कहा- कोरम पूरा होने के बाद चुनाव कराया जाएगा। इसके लिए भोपाल से वरिष्ठ अफसरों, सरकार से मार्गदर्शन मांगा गया है। वहीं, बाद में कोरम पूरा न होने के कारण चुनाव स्थगित कर अगली तारीख 28 सितंबर दी गई। वहीं जिला पंचायत सदस्यों ने आरोप लगाया कि राजनीतिक हस्तक्षेप के कारण चुनाव कराने में देरी की जा रही है। बार बार तारीख आगे बढ़ा दी जाती है।

जिला पंचायत सदस्य बोले – हमारा कोरम हो गया पूरा कराएं चुनाव

जिला पंचायत सदस्य अनिल राठौर, गेंदू बाई, ललिता गजराज राठौर ने कहा- हमारा कोरम पूरा हो गया। कृषि समिति में 5 सदस्य होते हैं। इसमें से हम तीन उपस्थित हैं नियमानुसार हमारी समिति के सभापति का चुनाव कराया जाना चाहिए था, लेकिन ऐसा नहीं किया गया। जिपं सदस्य अनिल राठौर ने कहा – हमने फार्म भरा। प्रस्तावक, समर्थक मौजूद हैं, लेकिन एडीएम ने कहा जब तक 10 सदस्य पूरे नहीं होंगे तब तक कोई फार्म स्वीकार नहीं होगा। मुझे लगता है कि किसी राजनीतिक दबाव के चलते यह चुनाव आगे बढ़ाने की कोशिश की जा रही है। 30 दिन का समय है। 22 दिन पहले समितियों का चुनाव हुआ था। एक बार 5 तारीख दी थी फिर आज नई तारीख दी। नियम है कि 30 दिन के अंदर समितियां भंग हो जाएगी। यही वही चाह रहे हैं कि जिनको वह यहां बैठाना चाह रहे हैं वह हो पाए। ऐसी स्थिति में हम कोर्ट की शरण लेंगे।

एक जिला पंचायत सदस्य आई, फोन आय तो वापस चली गईइस दौरान एक जिला पंचायत सदस्य रामकली बाई किशन धांडे भी जिला पंचायत पहुंची, लेकिन उन्हें अचानक किसी का फोन आया। इसी बीच उन्हें बाहर कोई लेने भी आया और वह वापस चली गईं। वहीं मामले में एडीएम शैलेंद्रसिंह सोलंकी ने कहा-जिला पंचायत के 10 सदस्य हैं। पांच समितियों का चुनाव कराना है। अधिनियम के अनुसार सभापति का चुनाव कराएंगे। भोपाल से मार्गदर्शन ले रहे हैं। वहीं बाद में गणपूर्ति के अभाव में चुनाव स्थगित कर दिए गए। आगामी तारीख 28 सितंबर दी गई है।

यह समितियां बनाई गई – इन्हीं में से चुनाव जाना था 1-1 सभापति1. कृषि स्थायी समितिगेंदु बाई चौहान, भावना किशोर पाटिल, अनिल राठौर, ललिता बाई, डॉ. कविता सूर्यवंशी।2. शिक्षा स्थायी समितिअशोक सालिकराम पटेल, चिंतराम पवार, रामकली किशन धांडे, डॉ. कविता सूर्यवंशी।3. संचार व संकर्म स्थायी समितिललिता बाई गजराज, अशोक सालिकराम पटेल, भावना किशोर पाटिल, रामकली बाई किशन धांडे, चिंताराम छोगीलाल पवार

4. सहकारिता व उद्योग स्थायी समितिललिता बाई गजराज, अनिल राठौर, चिंताराम छोगीलाल पंवार, गेंदु बाई, भावना किशोर पाटिल5. स्वास्थ्य महिला एवं बाल कल्याण स्थायी समितिरामकली बाई किशन धांडे, गेंदु बाई गुलाब चौहान, अशोक सालिकराम पटेल, डॉ. कविता सूर्यवंशी, अनिल राठौर।ऐसे समझे प्रक्रिया30 अगस्त को जिला पंचायत की पांच समितियों का गठन हुआ। 5 सितंबर को सभापतियों के लिए निर्वाचन सम्मेलन आहूत किया गया, लेकिन किसी कारणवश इसे स्थगित कर दिया गया। फिर 22 सितंबर की तारीख दी गई अब समिति के 6 सदस्य नहीं पहुंचे। एक सदस्य आकर वापस चली गई। अब अगली तारीख 28 सितंबर दी गई है, लेकिन अगर तब भी सभापतियों का चुनाव नहीं होता है तो नियमानुसार 30 सितंबर के बाद जिन समितियों का गठन किया गया था वह स्वतः समाप्त हो जाएगी।

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!