MP में सितंबर में बारिश के 18 अलर्ट…: अति भारी बारिश के अलर्ट चार बार फेल; अब एक्सपर्ट बोले- 100 दिन ठंड पड़ेगी

Hindi NewsLocalMpAlert Of Very Heavy Rain Failed All Four Times; Now The Expert Said It Will Be Cold For More Than 100 Days

भोपाल3 मिनट पहले

इस मानसूनी सीजन में मध्यप्रदेश में सामान्य से 22% ज्यादा 45 इंच बारिश हो चुकी है। मौसम विभाग के अनुमान और अलर्ट के अनुसार बारिश तो होती रही है, लेकिन उसका अति भारी बारिश का अनुमान सटीक नहीं बैठा। मौसम विभाग ने सितंबर के 21 दिन में से 18 दिन गरज-चमक से लेकर अति भारी बारिश का अलर्ट जारी किया। इनमें से चार बार अनुमान फेल हो गया, जबकि भारी बारिश के अलर्ट में करीब 80% जिलों में बारिश हुई, लेकिन भारी बारिश नहीं हुई। अब मौसम विभाग के एक्सपर्ट मानसून को देखते हुए इस बार ठंड ज्यादा पड़ने की संभावना जता रहे हैं। इस बार करीब 100 दिन ठंड पड़ सकती है।

मौसम विभाग ने हाल ही में 21 से लेकर 23 सितंबर तक कई इलाकों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया, लेकिन ज्यादा बारिश नहीं हुई। असल में अलर्ट जारी करते समय मौसम विभाग एक शब्द लिखता है कि कहीं-कहीं बारिश हो सकती है। ऐसे में कहीं एक जगह भी बारिश होने पर उसे अनुमान के अनुसार मान लिया जाता है।

जुलाई-अगस्त में अच्छी बारिश के कारण प्रदेश के आधे से ज्यादा इलाकों में 40 इंच से ज्यादा पानी गिर चुका है। पिछले 10 साल में इस साल तीसरी बार सबसे ज्यादा बारिश हुई है। सितंबर में 10 साल में दूसरी बार सबसे ज्यादा पानी गिरा।

यह अलर्ट जारी किए, यहां ज्यादा पानी गिरा

अब तक बारिश की स्थिति

प्रदेश में अब तक 45 इंच बारिश हो चुकी है। यह सामान्य 37 इंच से 8 इंच यानी 22% ज्यादा है। जुलाई और अगस्त में 17-17 इंच बारिश हुई थी। सितंबर में भी 7 इंच से ज्यादा पानी गिरा है। सितंबर के 8 दिन शेष हैं। ऐसे में यह आंकड़ा और बढ़ सकता है। प्रदेश में मध्य के इलाकों में अच्छी बारिश हुई है। बुंदेलखंड, बघेलखंड और ग्वालियर-चंबल में हालात ज्यादा ठीक नहीं हैं। सितंबर में इस बार बीते 10 साल में दूसरा सबसे ज्यादा बारिश वाला हो गया है।

अब अनुमान- पिछले साल जैसी ठंड की संभावना

मौसम एक्सपर्ट एके शुक्ला ने बताया कि पिछले साल की तरह इस बार भी अक्टूबर से ही सर्दी शुरू हो सकती है। ऊपरी हवा का रुख उत्तरी होने लगा है। हमारे यहां उत्तर से आने वाली सर्द हवा के कारण ही ठंडक बढ़ती है। इस बार सर्दी के मौसम में कोहरा छाने और विजिबिलिटी कम होने का ट्रेंड भी बढ़ सकता है। ऐसे में करीब 100 दिन ठंड पड़ सकती है। इस बार 15 दिन शीतलहर चल सकती है। 20 दिन तक कोल्ड डे हो सकता है। करीब 45 से ज्यादा दिन रात का तापमान 10 डिग्री या उसके आसपास रह सकता है।

मौसम केंद्र के रिटायर्ड डायरेक्टर डीपी दुबे के मुताबिक बारिश की लंबी अवधि के कारण नमी ज्यादा है, तापमान भी कम है। नवंबर से कड़ाके की ठंड शुरू हो सकती है। इस कारण सर्दी के दिनों की संख्या बढ़ेगी, तो ठंड की अवधि भी बढ़ेगी। इसका असर शीतलहर और ठंडे दिन होने की संख्या पर भी पड़ेगा।

इसे कहते हैं शीतलहर/कोल्ड डे

जब न्यूनतम टेम्प्रेचर 10 डिग्री या उससे कम और सामान्य से 4.5 डिग्री से 6.4 डिग्री तक कम होता है, तो इसे शीतलहर कहते हैं। जब न्यूनतम तापमान 10 डिग्री या उससे कम और दिन का तापमान सामान्य से 4.5 डिग्री से 6.4 डिग्री तक कम होता है, तो कोल्ड डे कहलाता है।

पिछले साल 45 दिन 10 डिग्री के नीचे था पारा

पिछले साल 15 अक्टूबर से 15 फरवरी 2022 तक 120 दिनों में 93 दिन और 81 रात ठंड पड़ी थी।इन 45 दिनों में पारा 10 डिग्री के नीचे रहा था। 16 दिन कोल्ड डे रहे। 10 बार शीतलहर भी चली थी।31 अक्टूबर को ही शीतलहर जैसे हालात बन गए थे। 20 दिसंबर को पारा 3.4 डिग्री पर पहुंच गया था।खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!