खंडवा में मृत आत्माओं के लिए श्राद्ध कर्म: हवन-पूजन कर गौमाता को गो-ग्रास खिलाकर दिव्यांग बच्चों को कराया भोजन; हुआ पौधारोपण

Hindi NewsLocalMpKhandwaOffering Food To Handicapped Children By Offering Havan worship And Feeding Cow grass To Gaumata; Plantation Done

खंडवा2 घंटे पहले

कॉपी लिंकमृत आत्माओं की शांति के लिए सेवा समिति ने किया श्राद्ध कर्म। - Dainik Bhaskar

मृत आत्माओं की शांति के लिए सेवा समिति ने किया श्राद्ध कर्म।

अपने पितरों को तो शांति हर कोई दिलाना चाहता है लेकिन उन आत्माओं की कौन सोचता है जिनसे जिंदा रहते वे कभी नहीं मिले। खंडवा में अज्ञात शवों का अंतिम संस्कार करने वाली संस्था द्वारा सैंकड़ों आत्माओं के लिए अमावस्या पर श्राद्ध का कार्यक्रम रखा। इस अजूबे माहौल में अज्ञात आत्माओं की शांति के लिए दो घंटे तक हवन किया गया। श्राद्ध में जो भोजन बनता है उसका भी भोग लगाया।

समिति सदस्य सुनील जैन ने बताया कि पूर्व निमाड़ सामाजिक सांस्कृतिक सेवा समिति द्वारा खंडवा में वर्षो से अज्ञात शवों का अंतिम संस्कार विधि-विधान से किया जाता है। समिति द्वारा हजारों की संख्या में अज्ञात शवों का अंतिम संस्कार धर्मानुसार किया जा चुका है। सनातन संस्कृति के अनुसार मृतक की आत्मा को प्रभु के चरण में स्थान मिलकर मोक्ष प्राप्त हो, इसके लिए श्राद्ध कर्म रविवार को पितृ मोक्ष दायनी अमावस्या पर सुबह 9 बजे सिहाड़ा रोड स्थित केशव सेवा धाम आश्रम में मृतकों की आत्मा की शांति के लिए तर्पण क्रिया हवन-पूजन एवं आरती पंडित अमित दाधीच शर्मा के मंत्रोच्चार के बीच किया।

इस दौरान आशीष चटकेले, भूपेन्द्रसिंह चौहान, सुनील जैन, भारत झंवर, रणवीरसिंह चावला, सुरेंद्र सोलंकी, मुबारिक पटेल, रितेश चौहान, मंगलेश शर्मा, नागेश वालिंजकर, मंगलेश तोमर, संजय दुबे, मनीष अग्रवाल, आशीष कपूर, मनीष अग्रवाल, अमित पालीवाल, सर्वेश राठौर, संतोष मालवीय, रविंद्र चौहान, विकास सातले, आसिफ पंवार, मनोज यादव, प्रतीक कानूनगो, कैलाश पटेल, नितिन झवर सहित समाजसेवियों ने तर्पण हवन-पूजन में भाग लेकर गायों को गो-ग्रास और दिव्यांग बच्चों को भोजन कराया।

पितृ मोक्ष अमावस्या पर आम के पौधे का किया रोपण

पेड़ पौधे हमें निशुल्क ऑक्सीजन प्रदान करते हैं, लेकिन अंधाधुन जंगलों की व पेड़ पौधों की कटाई के कारण हमें कुदरती ऑक्सीजन नहीं मिल पा रही है। इसका खामियाजा हमने कोरोना काल में देखा है। ऑक्सीजन की कमी के कारण इस काल में कई मौतें हो चुकी है। अब वक्त है पर्यावरण की रक्षा एवं पौधारोपण करने का। पितृ मोक्ष दायिनी अमावस्या के दिन सिहाड़ा रोड स्थित केशव सेवाधाम आश्रम में आम के पौधे का रोपण किया।

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!