रेलवे क्रासिंग: भिरंगी में 32 , मसनगांव में 20 कराेड़ से बनेगा रेलवे ओवर ब्रिज, समय बचेगा

Hindi NewsLocalMpHarda32 In Bhirangi, 20 Crores In Masangaon, Railway Over Bridge Will Be Built, Time Will Be Saved

हरदा31 मिनट पहले

कॉपी लिंकभिरंगी रेलवे गेट बंद हाेते ही स्टेट हाइवे पर लगता है वाहनाें का जाम। - Dainik Bhaskar

भिरंगी रेलवे गेट बंद हाेते ही स्टेट हाइवे पर लगता है वाहनाें का जाम।

जिले में चार स्थानाें पर रेलवे ओवर ब्रिज (आरओबी) प्रस्तावित है। दाे जगह हरी झंडी मिल चुकी है। दाे जगह की राशि मंजूर हाे चुकी है। अब काम शुरू हाेना है। नर्मदापुरम-खंडवा स्टेट हाइवे पर भिरंगी रेलवे गेट पर 32 कराेड़ 29 लाख 7 हजार रुपए और मसनगांव में 20 कराेड़ 37 लााख 60 हजार रुपए से आरओबी बनेगा। इससे लाेगाें रेलवे गेट पर बार-बार लगने वाले जाम की समस्या से छुटकारा मिल सकेगा। साथ ही लोगों का 15 मिनट से लेकर 30 मिनट तक का समय बचेगा।

इधर, हरदा में इंदाैर-बैतूल नेशनल हाइवे पर पड़ने वाले रेलवे डबल फाटक पर आरओबी जगह की कमी के कारण नहीं बन पा रहा है। इसके लिए पिलियाखाल के आसपास जमीन की तलाश है। खिरकिया में भी आरओबी निर्माण में जमीन की कमी का अडंगा बना हुआ है। इसके लिए रेलवे के अधिकारी मशक्कत कर रहे हैं। कृषि मंत्री कमल पटेल ने भी हाल ही में दिल्ली में रेलवे बाेर्ड के चेयरमैन से मुलाकात की। इसमें हरदा व खिरकिया में आरओबी निर्माण शीघ्र शुरू कराने पर चर्चा हुई। हरदा में पिलियाखाल के आसपास आरओबी बनाने के लिए रेलवे जमीन देख रहा है।

जानकारी के मुताबिक जिले में हरदा में नेशनल हाइवे, मसनगांव रेलवे गेट, नर्मदापुरम-खंडवा स्टेट हाइवे पर भिरंगी और खिरकिया रेलवे फाटक पर आवागमन के लिए आरओबी की लंबे समय से मांग उठ रही है। राज्य शासन ने बजट में भी आरओबी का प्रावधान किया। इसमें से मसनगांव व भिरंगी में आरओबी निर्माण का रास्ता साफ हाे गया है।

ड्राइंग मंजूर, अब हरदा, खिरकिया में जगह का मसलाआरओबी निर्माण के लिए ड्राइंग डिजाइन मंजूर हाे चुकी है। अब हरदा व खिरकिया में जगह का मसला है। दाेनाें आरओबी के लिए जगह बदलने की कवायद चल रही है। हाल ही में डीआरएम साैरभ बंदाेपाध्याय ने भी रेलवे स्टेशन का दाैरा किया था। इस दाैरान कृषि मंत्री पटेल ने उनसे चर्चा कर हरदा, खिरकिया में आरओबी निर्माण काे लेकर चर्चा की थी। इस दाैरान हरदा में पिलियाखाल और खिरकिया में निजी काॅलेज के पीछे अारअाेबी निर्माण के लिए जमीन की तलाश की बात कही थी।

दाेनाें स्थानाें पर आरओबी निर्माण के लिए निजी जमीन अधिग्रहण करना पड़ेगी। इधर, रेलवे पीआरओ सूबेदार सिंह ने कहा कि आरओबी निर्माण के लिए हरदा में ड्राइंग मंजूर हाे चुकी है। राशि का मामला राज्य सरकार के स्तर का है।

गेट बंद हाेने पर हाइवे के दाेनाें ओर लगता है जामइंदाैर-बैतूल नेशनल हाइवे पर पड़ने वाला रेलवे गेट शहर काे दाे हिस्साें में बांटता है। रेलवे गेट दिन में कई बार बंद हाेता है। इसके कारण वाहनाें की कतार लग जाती है। सुबह 9 से दाेपहर 12 और शाम काे 5 से 7.30 बजे तक ट्रेनाें की आवाजाही सबसे अधिक हाेती है। इसके कारण रेलवे गेट के दाेनाें ओर वाहनाें का लंबा जाम लग जाता है। यही स्थिति खिरकिया में भी हाेती है। रेलवे गेट बंद हाेते ही वाहनाें के पहिए थम जाते हैं। धुल व धुएं से दुकानदाराें की सेहद पर असर पड़ रहा है।

राशि मंजूर कर दी हैमसनगांव व भिरंगी में आरओबी निर्माण के लिए राज्य सरकार ने राशि मंजूर कर दी है। हरदा में पिलियाखाल और खिरकिया में निजी काॅलेज के पीछे से आरओबी निर्माण हाे सकता है। जरूरत पड़ी ताे निजी जमीन अधिग्रहण भी की जा सकती है। -कमल पटेल, कृषि मंत्री, मप्र

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!