छोटी देवी मंदिर में लगा 9 दिवसीय मेला: देर रात तक चला देवी प्रतिमाओं को स्थापित करने का सिलसिला, विधि विधान से भक्तों ने की पूजा अर्चना

टीकमगढ़12 मिनट पहले

कॉपी लिंक

शहर में शारदीय नवरात्र के आरंभ होते ही देवी मंदिरों में पूजा-अर्चना का सिलसिला शुरू हो गया है। सोमवार को सुबह से लेकर देर रात तक पंडालों में देवी प्रतिमाएं स्थापित करने का सिलसिला जारी रहा। आज सुबह से महिलाओं सहित अन्य लोगों ने देवी मंदिरों में पहुंचकर पूजा-अर्चना की। सबसे ज्यादा भीड़ शहर के ऐतिहासिक छोटी देवी मंदिर में जुट रही है।

प्रमुख देवी मंदिरों में माता का मनोहारी श्रृंगार कर आरती एवं पूजा-अर्चना की गई। नगर के बड़ी देवी मंदिर, छोटी देवी मंदिर, मां सिद्धेश्वरी मंदिर, राज राजेश्वरी माता मंदिर, संतोषी माता मंदिर, विंध्यवासनी माता मंदिर, बगात माता मंदिर सहित अन्य मंदिरों में माता का मनोहारी श्रृंगार कर पूजा-अर्चना की गई।

देर रात्री तक देवी मंदिरों व घरों में भजन-कीर्तन किए गए। नौ दिन तक चलने वाले इस पर्व के दौरान हजारों की संख्या में भक्तों ने उपवास रखा है। देवी मंदिरों में रोशनी के बेहतर इंतजाम किए गए।

छोटी देवी मंदिर में लगा मेला

नवरात्र के मौके पर छोटी देवी मंदिर में 9 दिवसीय मेले का आयोजन किया गया है। यहां महिलाओं के श्रृंगार, चूड़ियां, बिंदी, मंगलसूत्र सहित अन्य सामान सजाए गए हैं। मेले में महिलाओं की सुरक्षा के लिए खास तौर पर महिला पुलिस तैनात की गई है। नवरात्र में हर दिन सुबह 4 बजे से महिलाओं के मंदिर पहुंचने का सिलसिला शुरू हो जाता है।

दुर्गा पंडालों में सुरक्षा के विशेष इंतजाम

शारदीय नवरात्र के दौरान शहर में 70 से ज्यादा स्थानों पर देवी मां के पंडाल सजाए गए हैं। पुलिस प्रशासन और नगर पालिका ने दुर्गा पंडालों के आसपास साफ-सफाई और सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम रखने के निर्देश दिए हैं। साथ ही आयोजन समितियों को भी पंडालों में स्थाई तौर पर कुछ पदाधिकारी नियुक्त करने की हिदायत दी गई है। ताकि किसी भी तरह की अप्रिय घटना ना हो सके।

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!