एयरफोर्स के पास 2 मंजिल मकान तोड़ा: PM विजिट के दौरान SPG ने जताई थी नाराजगी, मकान से दिखती थी हवाई पट्‌टी

ग्वालियर19 मिनट पहले

अवैध मकान को तोड़ते हुए नगर निगम का अमला

जिला प्रशासन, पुलिस और नगर निगम की संयुक्त कार्रवाई

ग्वालियर में नामीबिया से चीतों को लाने और प्रधान मंत्री की विजिट के दौरान SPG ने एयरफोर्स के नजदीक एक दो मंजिल मकान को लेकर आपत्ति की थी। इस मकान की छत से एयरबेस की हवाई पट्‌टी साफ नजर आ रही थी। इसके बाद एयरफोर्स ने बाउंड्री वॉल के नजदीक बने इस मकान को तोड़ने जिला प्रशासन के अफसरों को कहा था। उसी सिलसिले में शुक्रवार को जिला प्रशासन, पुलिस और नगर निगम ने संयुक्त कार्रवाई कर इस दो मंजिल भवन और उसके आसपास बने निर्माण काे तोड़ दिया है। विरोध हो सकता था इसलिए काफी मात्रा में पुलिस फोर्स भी मौजूद रहा था।

मकान सुरक्षा के लिए था खतराएयर फोर्स स्टेशन ने प्रशासन को ग्राम भोंडई में एयर फोर्स से सटकर बनाए गए दो मंजिला भवन को लेकर पत्राचार किया था। जिसमें इस भवन को सुरक्षा के लिहाज से उचित नहीं पाते हुए कार्रवाई करने को कहा था। एयर फोर्स स्टेशन के लगातार पत्रचार के बाद कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने इस मामले में ADM को मामले में कार्रवाई के निर्देश दिए थे। अभी हाल ही में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ग्वालियर ट्रांजिट विजिट से पहले आई SPG की टीम ने भी यहां की सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेते हुए इस भवन को लेकर आपत्ति जताई थी। इस आपत्ति के बाद ही प्रशासन ने इसे तोड़े जाने के निर्देश दिए थे। नगर निगम को इस भवन को तोड़े जाने के निर्देश मिलने के बाद निगम की टीम बुलडोजर के साथ यहां पहुंची थी। लेकिन उस समय विरोध होने तथा पर्याप्त पुलिस बल नहीं होने से टीम उन्हें चेतावनी देकर लौट आई थी। यहां पर राजेन्द्र सिंह गुर्जर ने एक हजार स्वॉयर फीट जमीन पर 1 मंजिला मकान बनाया था लेकिन तब कोई आपत्ति नहीं हुई थी लेकिन बाद में उन्होंने उस पर एक मंजिल और तान दी। इस कारण हवाई अड्डे की सुरक्षा को खतरा उत्पन्न हो रहा था। लिहाजा इस भवन को हटाने के आदेश दिए गए हैं। इसके साथ ही प्रशासन ने लोगों से कहा है कि प्रतिबंधित क्षेत्र में वे किसी प्रकार का निर्माण कार्य न करें।पुलिस को कहनासीएसपी, महाराजपुरा रवि भदौरिया ने बताया कि एक भवन को ढहाया गया है। यह भवन से एयरफोर्स की हवाई पट्टी नजर आ रही थी। जिससे यह एयरफोर्स के लिए खतरा बन गया था। यह भवन काे ढहाने की कार्रवाई जिला प्रशासन व नगर निगम और पुलिस की टीम ने की है। इस भवन को सुरक्षा करने वाले स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप ने चिन्हित किया था। इसके बाद से ही यह भवन प्रशासन, निगम और पुलिस ने इस भवन को अपने टारगेट पर लिया था। जिसके बाद यह कार्रवाई की गई है।

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!