नपा चुनाव के बाद अब अध्यक्ष की कवायद शुरु: अध्यक्ष चेहरे पर सबकी नज़र, इन तीन चेहरों में से किसी एक का नाम होगा फाइनल

Hindi NewsLocalMpJhabuaEveryone’s Eyes On The President’s Face, The Name Of Any One Of These Three Faces Will Be Final

झाबुआ41 मिनट पहले

कॉपी लिंकये झाबुआ नपा अध्यक्ष के लिए प्रबल दावेदार - Dainik Bhaskar

ये झाबुआ नपा अध्यक्ष के लिए प्रबल दावेदार

झाबुआ नगर पालिका चुनाव के नतीजे आने के बाद अब सभी की नजरें नपा अध्यक्ष चुनाव पर लगी हुई हैं। झाबुआ नगर पालिका चुनाव में 9 वार्ड पर बीजेपी, 7 पर कांग्रेस और 2 वार्ड पर निर्दलीय जीते हैं। निर्दलीय भी बीजेपी के ही हैं। ऐसे में बीजेपी का अध्यक्ष बनना तय माना जा रहा है। लेकिन, चेहरा कौन होगा इसको लेकर सभी अटकलें लगा रहे हैं।

झाबुआ नगर पालिका का अध्यक्ष पद एसटी ओपन के लिए आरक्षित हैं, नगर पालिका के 7 वार्ड एसटी के लिए आरक्षित हैं। 11 से लेकर वार्ड नंबर 17 तक अजजा के लिए आरक्षित हैं। इन सात वार्डों में से बीजेपी उम्मीदवार 3 वार्डों पर जीते हैं, जबकि 4 वार्डों पर कांग्रेस उम्मीदवार जीते हैं। बीजेपी के तीन विजेताओं पार्षद में से पार्टी आलाकमान किस पर मुहर लगाता है और कौन अध्यक्ष चुनाव में उतरेगा, इसको लेकर चर्चाएं तेज हो गई हैं।

झाबुआ के वार्ड 13 से बीजेपी की बसंती बारिया चुनाव जीती हैं, बसंति बारिया 2017 में अध्यक्ष पद के लिए बीजेपी की उम्मीदवार थी लेकिन वे कांग्रेस की मनूबेन डोडियार से 1470 वोटों से हार गई थी। एक बार फिर वे दावा कर सकती हैं और भाजपा का एक धड़ा भी उन्हें नपा अध्यक्ष बनाए जाने के पक्ष में हैं। बसंति बारिया के नाम पर नाका ग्रूप हामी भर सकता है। वार्ड नंबर 14 से कविता सिंगार चुनाव जीती हैं, कविता सिंगार पिछली बार भी अध्यक्ष की दावेदार थी लेकिन टिकट नहीं मिला, इस बार पार्षद चुनाव 631 वोट से जीतीं हैं और वे भी अपनी दावेदारी पेश कर सकती हैं।

झाबुआ नगर पालिका के तीसरे दावेदार वार्ड नं. 16 से चुनाव जीते पर्वत मकवाना माने जा रहे है। पर्वत मकवाना इसके पहले भी झाबुआ नगर पालिका के अध्यक्ष रह चुके हैं। पर्वत मकवाना के नाम पर संघ के साथ जिले के बड़े नेताओं और पूर्व विधायक का भी साथ मिल सकता है। तीनों दावेदारों में पार्टी किसे अधिकृत करती है, इसके बाद तय होगा।

नगर पालिका और नगर परिषद् अध्यक्ष और उपाध्यक्ष चुनाव की तारीख अभी तय नहीं है। पार्षदों के निर्वाचन की अधिसूचना जारी होने के 15 दिनों के भीतर सम्मेलन बुलाकर अध्यक्ष-उपाध्यक्ष का चुनाव होता है। कलेक्टर की ओर से पार्षदों की अधिसूचना जारी होने के बाद अध्यक्ष-उपाध्यक्ष चुनाव की तारीख सामने आएगी। तब दावेदारों को लेकर अटकलों का बाजार गर्म ही रहेगा।

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!