माता रानी के दरबार में श्रद्धालुओं की भीड़: ज्वाला देवी मंदिर कलबोड़ी में जगमगा रहे 335 ज्योति कलश, अन्य राज्यों के भक्तों ने भी रखा मनोकामना कलश

Hindi NewsLocalMpSeoni335 Jyoti Kalash Lit Up In Jwala Devi Temple Kalbodi, Devotees From Other States Also Kept Their Wish

सिवनी25 मिनट पहले

कॉपी लिंक

सिवनी जिला मुख्यालय से 15 किमी दूर नागपुर रोड स्थित कलबोड़ी मां ज्वाला देवी सिद्ध पीठ मंदिर में शारदीय नवरात्र पर्व पर 335 अखंड ज्योति मनोकामना कलश जगमगा रहे है।

कई प्रदेशों के लोगो ने रखे कलश

जिसमें सिवनी, छिंदवाड़ा, भोपाल, नागपुर, मुंबई, भंडारा, बालाघाट, गोंदिया, रायपुर, मंडला, भिलाई, जबलपुर, रीवा, दिल्ली, हाथरस, इलाहबाद, नासिक, राजस्थान, नरसिंहपुर, कटनी, लखनऊ, फैजाबाद, अयोध्या, जम्मू-कश्मीर, बिहार व नेपाल सहित 20 जिलों से श्रद्धालुओं ने मनोकामना कलश की स्थापना कराई है। इसमें घी के 10 कलश भी शामिल हैं।

जस एवं भजन का आयोजन

मंदिर के मुख्य पुजारी दुर्गादासानंद बाबा ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रतिदिन मंदिर में दूर-दूर से श्रद्धालु माता रानी के दर्शन करने पहुंच रहे है। माता रानी के दर्शन मात्र से श्रद्धालुओं की मनोकामना पूरी हो जाती है। प्रतिदिन मंदिर में दोपहर से महिला मंडल की ओर से जस गायन किया जा रहा है। रात्रि में पुरुष मंडल की ओर से माता रानी का जगराता किया जा रहा है।

कांटे से बनी आसन पर बैठकर ध्यान योग और मौन साधना

माता रानी के दरबार में प्रतिदिन सुबह शाम महाआरती की जा रही है। जिसमें बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंच रहे है। ब्रम्हालीन रतनलाल बाबा की ओर से देवी की भक्ति से जो परंपरा कार्यक्रमों की नींव डाली गई थी। उन सभी कार्यक्रमों को अब वर्तमान समय में उनके शिष्य दुर्गादासनंद बाबा उसी तरह निर्वहन करते हुए मां ज्वाला देवी का पूजन कर बबूल के कांटे से बनी आसन पर बैठकर ध्यान योग और मौन आसन कर रहे है। इस अवसर पर मंदिर समिति की ओर से मंदिर परिसर को आकर्षक रूप से सजाया गया है। जो कि आकर्षण का केन्द्र बना हुआ है।

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!