फार्मकार्ट में ग्लोबल ऑपरेशंस: कनाडा में करोड़ों रु. की नौकरी त्याग आइवी लीग स्नातक भारतीय कृषि तकनीकी स्टार्ट-अप से जुड़े पासटर स्टीफान

Hindi NewsLocalMpBarwaniCrores In Canada. Ivy League Graduate Pastor Stephen Associated With Indian Agricultural Tech Start up

बड़वानी27 मिनट पहले

कॉपी लिंक

स्टीफान पासटर अमेरिका के आइवी लीग कॉर्नेल यूनिवर्सिटी से एमबीए हैं। साथ ही उन्होंने दुनिया के शीर्ष संस्थानों और विश्वविद्यालयों से स्नातकोत्तर डिग्रियां प्राप्त की हैं। जिनमें फ्रांस के आर्ट्स एंड मेटियर्स पेरिसटेक, कनाडा के ईटीएस और क्वीनस यूनिवर्सिटी शामिल हैं। हाल ही में उन्होंने भारत के एक ग्रामीण शहर बड़वानी (मध्य प्रदेश) में कृषि तकनीकी नवाचार स्टार्ट अप फार्मकार्ट में चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर (सीओओ) का पदभार संभाला है। बड़वानी में फार्मकार्ट का मुख्यालय हैं। यह एक ग्रामीण इलाका है, जिसकी ज्यादातर जनसंख्या कृषि से जुड़ी है।

पासटर व्यक्तिगत और पेशेवर दोनों ही जीवन में बहु सांस्कृतिक पृष्ठभूमि से है। वे एक फ्रांसीसी नागरिक है, और अब तक 4 महाद्वीपों के 8 देशों में निवास कर चुके हैं। पासटर ने जी ई जैसी वैश्विक और बड़ी कंपनियों में काम किया है। अपने पिछले कार्यकाल में उन्होंने वैमानिकी, विनिर्माण, तेल व गैस, सेल्स, सर्विस और प्रोजेक्ट मैनेजमेंट आदि क्षेत्रों में सराहनीय योगदान दिया है। अब वे एक बड़ी ऊर्जा कंपनी बेकर ह्यूज में करोड़ों की नौकरी छोड़ कर ग्रामीण भारत में अपना योगदान देंगे।

वे हमेशा से ही किसी ऐसे काम की तलाश में थे, जिसकी मदद से दुनिया में कोई सार्थक बदलाव लाया जा सके। नवनियुक्त सीओओ स्टीफान पास्टर के अनुसार, यह मेरे लिए लाखों भारतीय किसानों के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने का एक दुर्लभ अवसर है। मेरा ऐसा मानना है कि भारत में कृषि क्षेत्र में मौजूदा क्षमताओं का अब भी पूरी तरह दोहन नहीं हुआ है। फार्मकार्ट इस क्षेत्र में डिजिटल क्रांति लाने में एक अहम भूमिका निभा रहा है। साथ ही आज सभी फार्मकार्ट के उत्कृष्ट ब्रांड और प्रगतिशील स्टार्टअप संस्कृति की सराहना कर रहे हैं। यहां नवाचार और ग्राहकों को सर्वोच्च स्थान दिया जाता है, जो मेरे मूल्यों से बिल्कुल मेल खाता है।

2025 तक बढ़ेगा कृषि तकनीकी बाजारअर्न्स्ट एंड यंग के 2020 में किए गए अध्ययन के अनुसार 2025 तक भारतीय कृषि तकनीकी बाजार का कुल मूल्य 524 बिलियन होगा। बैन एंड कंपनी द्वारा किए एक अन्य शोध में इस आकड़े को 535 बिलियन माना गया है। पासटर का फार्मकार्ट लीडरशिप टीम और भारत में होना कई कारणों से महत्त्वपूर्ण है। अपने ज्ञान और अनुभव से वे न सिर्फ फार्मकार्ट बल्कि भारतीय कृषि तकनीकी क्षेत्र में भी महत्त्वपूर्ण योगदान करने में सक्षम हैं।

मन की बात में पीएम ने किया था उल्लेखवर्ष 2020 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात की 70वीं कड़ी में फार्मकार्ट के कार्यों और उसके द्वारा लॉकडाउन में किसानों के हित में किए प्रयासों की सराहना की थी। सीईओ अतुल पाटीदार के अनुसार फार्मकार्ट कुछ ही महीनों में पूरे देश में विस्तार की योजना बना रहा है। कंपनी सीरीज ए फंडिंग की ओर भी अग्रसर है। फार्मकार्ट में पासटर ग्लोबल ऑपरेशंस, कंपनी की मध्यम और दीर्घकालिक रणनीति के अनुरूप परिचालन और प्रक्रिया अनुकूलन के कार्यों की देखरेख करेंगे।

पासटर भारत में ग्रामीण रोजगार और कृषि तकनीकी क्षेत्र के भविष्य को लेकर भी काफी उत्साहित है। उनके अनुसार आज सभी की नजर ग्रामीण क्षेत्रों पर है। साथ ही महामारी के बाद भारत के कृषि तकनीकी क्षेत्र में बेहतरीन गतिविधि है। कई शोध इस ओर भी इशारा करते हैं कि भारत जल्द ही उभरते बाजारों में सबसे आगे होगा।

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!