व्यंकटेश मंदिर में भागवत कथा का समापन: सुदामा चरित्र के साथ हुआ कथा विश्राम, पलक किशोरी ने कहा- मित्रता की अनूठी मिसाल हैं श्रीकृष्ण-सुदामा

Hindi NewsLocalMpSatnaStory Rested With Sudama Character, Palak Kishori Said Shri Krishna Sudama Is A Unique Example Of Friendship

सतना25 मिनट पहले

कॉपी लिंक

नवरात्रि के अवसर पर व्यंकटेश मंदिर प्रांगण में आयोजित श्रीमद भागवत कथा का रविवार को धूमधाम के साथ समापन हुआ। कथा के सातवें दिन बाल विदूषी पलक किशोरी ने श्रोताओं को प्रमुख रूप से श्रीकृष्ण सुदामा चरित्र, श्रीकृष्ण -जामवंत युद्ध और महाभारत की कथा सुनाई। कथा का समापन होने के बाद कथा व्यास बाल विदूषी पलक किशोरी ने हजारों की संख्या में आए श्रद्धालुओं को प्रसाद स्वरूप अक्षत प्रदान किए।

प्रसाद स्वरूप मिले अक्षत श्रद्धालु अपने घर के भंडार में रखेंगे। यह कामना करेंगे कि प्रभु कृपा बनी रहे तथा उनका भंडार भरा रहे। कथा समापन के बाद व्यंकटेश मंदिर प्रांगण स्थित यज्ञशाला में हवन-पूजन का कार्यक्रम आयोजित किया गया, इसमें आयोजन समिति के सभी सदस्य सपरिवार शामिल हुए।

कथा सुनने पहुंचे महापौर

समापन दिवस पर सतना के महापौर योगेश ताम्रकार, पूर्व महापौर राजाराम त्रिपाठी, पूर्व नगर निगम अध्यक्ष पंडित सुधाकर चतुर्वेदी, जिला सेवा सहकारी समिति के पूर्व अध्यक्ष पंडित कमलाकर चतुर्वेदी, सपा के जिलाध्यक्ष राजेश दुबे, सतना के प्रभारी आरटीओ संजय श्रीवास्तव, अभय सीएनजी के डायरेक्टर गुलाब शुक्ला, वरिष्ठ शिक्षक अच्युत शुक्ला (पटना) शिवपाल तिवारी, छविराम तिवारी भागवत कथा एवं आरती में शामिल हुए। इस दौरान नगर निगम के प्रभारी अतिक्रमण अधिकारी रमाकांत शुक्ला ने सभी को शॉल एवं श्रीफल भेंटकर सम्मानित किया।

कन्या पूजन एवं भंडारा आज

सोमवार को व्यंकटेश मंदिर प्रांगण में दोपहर एक बजे से शाम पांच बजे तक विशाल भंडारा आयोजित होगा। इसके पूर्व सुबह दस बजे से कन्या पूजन का कार्यक्रम होगा। श्रीमद भागवत कथा के समापन के बाद बाल विदूषी पलक किशोरी ने शॉल श्रीफल भेंटकर आयोजक मंडल के सभी सदस्यों को सम्मानित किया।

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!