टीकमगढ़ में बदला मौसम का मिजाज: पलेरा और बम्होरी कला में बारिश, बल्देवगढ़ और टीकमगढ़ में धूल भरी आंधी, किसानों को फिर सताने लगी फसलों की चिंता

Hindi NewsLocalMpTikamgarhRain In Palera And Bamhori Kala, Dust Storm In Baldevgarh And Tikamgarh, Farmers Worried About Crops Again

टीकमगढ़16 मिनट पहले

जिले में एक बार फिर मौसम में बदलाव आया है। मंगलवार को सुबह से ही आसमान में बादल छाए हैं। जिसके बाद दोपहर में जिले के कुछ हिस्सों में बारिश शुरू हो गई। अचानक मौसम बदलने से किसानों को एक बार फिर मूंगफली और सोयाबीन फसल की चिंता सताने लगी है।

पिछले 1 सप्ताह से मौसम साफ नजर आ रहा था। आज अचानक सुबह से आसमान में बादल छा गए और धूप नहीं निकली। वहीं दोपहर 3 बजे के बाद पलेरा में बारिश शुरू हो गई। इसके अलावा बम्होरी कला में भी बारिश होने लगी। वहीं नगर परिषद बल्देवगढ़ में तेज हवाओं के साथ आसमान में काले घने बादल छा गए।

शाम 4:30 बजे टीकमगढ़ में भी आसमान में बादल छाने के साथ धूल भरी आंधी चलने लगी। हालांकि मौसम विभाग ने पहले ही बुंदेलखंड के कुछ हिस्सों में बारिश होने की संभावना जाहिर की थी। आज अचानक मौसम बदलने से किसानों के माथे पर एक बार फिर चिंता की लकीरें खिंच गई है। किसानों का कहना है कि अगर ज्यादा बारिश हुई तो शेर बच्ची मूंगफली और सोयाबीन की फसल भी पूरी तरह से नष्ट हो जाएगी।

अब सोयाबीन और मूंगफली को खतरा

अतिवृष्टि से जिले में मूंग उड़द और तिल की फसल पहले ही बर्बाद हो चुकी है। अब दोबारा मौसम में आए बदलाव से किसानों को सोयाबीन और मूंगफली फसल की चिंता सताने लगी है। किसान रामकुमार शर्मा ने बताया कि अभी खेतों में मूंगफली और सोयाबीन की फसल अच्छी स्थिति में है, लेकिन अगर बारिश हुई तो दोनों ही फसलों को काफी नुकसान होगा।

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!