गुना में 51 फीट के रावण का दहन VIDEO: पहली बार में नहीं जला पुतला; घांस में आग लगाकर करना पड़ा दहन

गुना36 मिनट पहले

दशहरा मैदान में रावण दहन किया गया।

गुना में दशहरे के अवसर पर 51 फीट के रावण का दहन किया गया। दशहरा मैदान में कार्यक्रम हुआ। इससे पहले भगवान राम की यात्रा बाजार में होते हुए दशहरा मैदान पहुंची। यहां युद्ध के बाद रावण दहन हुआ। भगवान राम ने जलता हुआ तीर छोड़ा। हालांकि पहली बार मे रावण नहीं जला। रावण के पुतले के नीचे रखी घांस में आग लगाई गई, तब जाकर रावण पूरी तरह जला। कार्यक्रम में जनप्रतिनिधियों सहित अधिकारी-कर्मचारी और हजारों की संख्या में नागरिक मौजूद रहे।

बता दें कि पिछले वर्ष बंदिशें होने के कारण रावण की ऊंचाई केवल 35 फीट ही रखी गयी थी। आयोजन भी बड़े स्तर पर नहीं हुआ था। इस बार किसी तरह की बंदिशें नहीं थी। नगरपालिका ने बड़े स्तर पर दशहरा मैदान में तैयारी की। रावण का पुतला भी 51 फीट का बनाया गया। शिवपुरी जिले के बदरवास के रहने वाले रईस भाई ने इसे तैयार किया। वह पिछले 6 वर्क्सओं से गुना में रावण का पुतला तैयार करते हैं। 16 दिन में रावण का 51 फीट ऊंचा पुतला तैयार हुआ। 7 मजदूर इसे बनाने में लगे थे। इसका वजन डेढ़ क्विंटल के आस-पास था। 50 किलो तो रद्दी इसमे इस्तेमाल हुई थी।

बुधवार शाम को भगवान राम की यात्रा शुरू हुई। सदर बाजार, हाट रोड, हनुमान चौराहा, कैंट चौराहा होते हुए यात्रा दशहरा मैदान तक पहुंचा। यहां पहले अतिथियों ने भगवान राम, लक्ष्मण, हनुमान की आरती उतारी। इसके बाद राम-रावण संवाद शुरू हुआ, जो आखिर में युद्ध के पड़ाव पर पहुंचा। इसके बाद भगवान राम ने आग जलता हुआ तीर छोड़ा, जो रावण के पुतले में जाकर लगा। तीर लगते हैं भगवान राम की जय-जय कार के नारे आयोजन स्थल पर गूंजने लगे।

आग जलता हुआ तीर छोड़ते भगवान राम।

आग जलता हुआ तीर छोड़ते भगवान राम।

घांस डालकर जलाना पड़ा पुतला

पहली बार में रावण का पुतला नहीं जल पाया। मामूली सा जलकर आग रुक गयी। शायद नमी के कारण ऐसा हुआ हो। इसके बाद पुतले के नीचे रखी घांस में आग लगाई गई। घांस की मदद से पुतला जल पाया। पुतला दहन के बाद एक बार फिर भगवान राम की आरती की गई। पिछले वर्ष के मुकाबले इस बार हजारों की तादाद में नागरिक रावण दहन कार्यक्रम देखने पहुंचे।

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!