मुख्यमंत्री जनसेवा अभियान: कलेक्टर ने कहा- जनसेवा अभियान में आए आवेदनों का 100 प्रतिशत निराकरण जरूरी

Hindi NewsLocalMpKhargoneCollector Said 100 Percent Resolution Of The Applications Received In The Public Service Campaign Is Necessary

खरगोनएक घंटा पहले

कॉपी लिंक

कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम ने मुख्यमंत्री जनसेवा अभियान अंतर्गत प्राप्त आवेदनों के संबंध नवीन कलेक्ट्रेट सभागृह में गुरुवार को जिला अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक के दौरान कलेक्टर ने जिले के सभी जनपद सीईओ से एक-एक कर मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान के प्रत्येक योजनाओं में प्राप्त आवेदनों की जानकारी ली। अभियान अंतर्गत प्राप्त किए आवेदनों की जांच कर जल्द निराकरण को कहा। कलेक्टर ने बड़वाह व सेगांव जनपदों में योजनाओं में लंबित आवेदनों में नाराजगी व्यक्त की।

अभियान अंतर्गत मिले आवेदनों की गंभीरता से जांच के निराकरण को कहा। जो आंकड़े पोर्टल पर दिख रहे है उनकी सुबह शाम मॉनिटरिंग करें। बैठक में अपर कलेक्टर जेएस बघेल, जिला पंचायत सीईओ दिव्यांक सिंह, सीएचएमओ डॉ. डीएस चौहान, जनपद सीईओ सहित सभी जिला अधिकारी उपस्थित रहे।धारा 144 का यदि उल्लंघन है तो सीएचओ पदाधिकारियों पर होगी कार्रवाई – कलेक्टर ने कहा कि कम्यूनिटी हेल्थ ऑफिसर्स (सीएचओ) को मुख्यमंत्री जनसेवा अभियान अंतर्गत महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी गई थी।

उसको पूरा न करते हुए प्रदर्शन किया। जबकि वर्तमान में धारा 144 लागू है। कलेक्टर ने सीएमएचओ ड़ॉ. डीएस चौहान को निर्देश दिए कि क्या उन्होंने अनुमति ली थी। यदि बिना अनुमति के प्रदर्शन किया गया है तो धारा 144 का उल्लंघन करने पर पदाधिकारियों पर वैधानिक कार्रवाई की जाए।

बिना अनुमति रिलीव हुए, श्रम अधिकारी का 1 माह का वेतन रोकने पर चर्चाकलेक्टर की बिना अनुमति के श्रम अधिकारी शैलेंद्र सोलंकी रिलीव होने पर उनकी 1 माह की सैलरी रोकने के लिए श्रमायुक्त को पत्र लिखा जाएगा। इस संबंध में कलेक्टर श्रमायुक्त को कॉल कर जानकारी दी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान के खत्म हो जाने के बाद ही रिलीव होने के लिए आदेशित किया था। इसके बावजूद श्रम अधिकारी बिना अनुमति के रिलीव हुए।

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!