नप की तालाब किनारे चौपाटी बनाने की मंशा: 7 साल पहले लेकर आए थे प्रस्ताव, अध्यक्ष व सभापति ने किया था निरीक्षण; फिर से लोगों की उम्मीद जगी

मुलताईएक घंटा पहले

कॉपी लिंक

मुलताई के तालाब किनारे चौपाटी बनाने का प्रस्ताव पिछली परिषद में 7 साल पहले लिया था। तब से अभी तक केवल निरीक्षण ही हुए हैं। प्रस्ताव लिए जाने के बाद भी यहां पर कोई डेवलपमेंट नहीं हुआ है। इसके डेवलपमेंट के लिए केवल कागजों में प्रस्ताव ले लिया गया। अब नई परिषद ने एक बार फिर यहां पर चौपाटी बनाने की मंशा जाहिर की गई है।

लगभग 7 साल पहले भाजपा की नगर परिषद बनने के बाद नगर पालिका अध्यक्ष हेमन्त शर्मा व उनके सभापति ने तालाब किनारे निरीक्षण किया था। उन्होंने यहां पर चौपाटी बनाने की मंशा जाहिर की थी। इसके लिए नगर पालिका की बैठक में प्रस्ताव लिया गया था, लेकिन कागज में प्रस्ताव लेने के बाद कोई कार्रवाई आगे नहीं हो पाई। नई परिषद ने फिर एक बार मन बनाया है। नगर परिषद के अधिकारी निरीक्षण भी कर चुके हैं और चौपाटी बनाने की बात कर रहे हैं। अब ऐसे में एक बार उम्मीद जगी है कि यहां चौपाटी बन पाएगी।

भक्त निवास के लिए 4 साल से चल रहा निरीक्षणनगर में पिछले 4 साल से भक्त निवास बनाने के लिए निरीक्षण चल रहा है। तत्कालीन पीएचई मंत्री सुखदेव पांसे ने कलेक्टर के साथ यहां निरीक्षण किया गया था और भक्त निवास बनाने के लिए कहा था, लेकिन इसके बाद कांग्रेस की सरकार प्रदेश में नहीं रह पाई। ऐसे में यह बात आई गई हो गई, उसके बाद कोरोना आ गया। अब एक बार फिर यहां पर 41,00,000 रुपए की लागत से भक्त निवास बनाने की बात हो रही है, लेकिन अभी तक राशि नहीं आ पाई है।

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!