दिवाली पर बाजारों में रौनक: चायनीज से ज्यादा भारतीय दीयों की ज्यादा मांग, पढ़ें…दामों में कितना है अंतर


Hindi NewsLocalMpDatiaThere Is More Demand For Indian Lamps Than Chinese, Read… How Much Is The Difference In Prices

दतिया31 मिनट पहले

जिले में ठेलों और बाजारों में मिट्टी के दीए सज गए हैं। बाजारों में तरह-तरह के दीए आए हैं। सामान्य मिट्टी के दीए के साथ बाजारों में चायनीज दीए भी नजर आ रहे हैं। बाजारों में इस बार शेर की आकृति, सामान्य दीपक और शिवलिंग आकार की आकृति के दीए लोगों के आकर्षण का केंद्र बन रहे हैं।

शेर की आकृति के दीए की कीमत 5 रुपए प्रति दीया है। वहीं, सामान्य दीया 30 रुपए के 20 बिक रहे हैं। इसके अलावा अन्य चायनीज दीयों की कीमत भी 30 रुपए में 20 के आसपास ही हैं। लेकिन इस बार बाजार में भारतीय कुम्हारों के बनाए गए दीए ज्यादा बिक रहे हैं। मिट्टी के बर्तन बेचने वाले जगमोहन सिंह बताते हैं कि यह हमारा पुश्तैनी धंधा है। इसी से जीविका चलती है। लेकिन अब बाजार में रंगीन लाइटें आ गई हैं। जिससे लोगों ने दीयों का प्रयोग कम कर दिया है, उन्हें उम्मीद है। इस दिवाली पर उनके दीयों की अधिक बिक्री होगी। दीपावली से पहले बिक्री बहुत कम रहती है। लेकिन दीपावली से दो दिन पहले होने वाली बिक्री का इंतजार रहता है। इस बार दिवाली पर दीयों की मांग बढ़ने की उम्मीद है। जिसे देखते हुए दीए बनाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि रंगीन लाइटों से घर सजाया जा सकता है। लेकिन पूजा पाठ, धार्मिक अनुष्ठान के लिए दीयों का ही उपयोग किया जाता है।

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!