लोकायुक्त की दबिश में भ्रष्टाचारी बेनकाब: रीवा में पटवारी 5 हजार रुपए की रिश्वत लेते ट्रेप, दलाल के हाथ में दिलाई रकम, दोनों को बनाया गया आरोपी

रीवा4 घंटे पहले

कॉपी लिंकटी शर्ट में आरोपी पटवारी उमेश वर्मा - Dainik Bhaskar

टी शर्ट में आरोपी पटवारी उमेश वर्मा

रीवा लोकायुक्त ने एक भ्रष्टाचारी पटवारी को बेनकाब किया है। लोकायुक्त सूत्रों की मानें तो मऊगंज तहसील अंतर्गत डिघबार हल्का में पदस्थ पटवारी को 5000 रुपए की रिश्वत लेते ट्रेप हुआ है। दलाली के लिए रिश्वतखोर पटवारी एक ​प्राइवेट आदमी को रखा था। वह किसान से जमीन बंटवारा के एवज में रकम मांगी थी, लेकिन बिना पैसे लिए काम नहीं कर रहा था। ऐसे में थक-हारकर पीड़ित लोकायुक्त एसपी कार्यालय शिकायत लेकर पहुंचा।

आवेदन का सत्यापन कराने पर शिकायत सही मिली। बातचीत के आधार पर शनिवार को ट्रैंपिग का समय निर्धारित हुआ। लेकिन पटवारी शाम 6.30 बजे देवतालाब उप तहसील के पास एक ऑटो पार्ट्स की दुकान के सामने बुलाया। जहां पहले से खड़ी टीम ने रकम लेते ही रंगे हाथ पकड़ा है। लोकायुक्त की टीम पटवारी और दलाल साथी को लेकर मनगवां विश्राम ग्रह पहुंची है। जहां भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया है।

लोकायुक्त एसपी गोपाल सिंह धाकड़ ने बताया कि 21 अक्टूबर की शाम आरोपी उमेश वर्मा पटवारी हल्का डिघबार और दलाल नीरज शर्मा को 5 हजार की रकम के साथ गिरफ्तार किया है। उसने किसान यज्ञभान जायसवाल निवासी देवतालाब से दो भाईयों के मध्य पुस्तैनी जमीन का बंटवारा करने के एवज में रकम मांगी थी। दोनों के बीच 5 हजार का सौदा तय ​हुआ।

किस्त की ​रकम लेने के लिए आरोपी पटवारी देवतालाब उप तहसील के पास एक प्राइवेट आदमी को लेकर ऑटो पार्ट्स की दुकान के सामने बुलाया। जैसे ही किसान ने रिश्वत की रकम पटवारी को सौंपी। तब उसने प्राइवेट आदमी को देने का इशारा किया। ऐसे में किसान ने संबंधित आदमी को रकम दे दी। इसी बीच किसान का इशारा सुनते ही लोकायुक्त टीम ने धर दबोचा है।

खबरें और भी हैं…

error: Content is protected !!